... "FACT पत्रवार्ता" जिला अस्पताल घोटाला : स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर "12 करोड़" का "महाघोटाला"आया सामने,जिला प्रशासन की जांच में सिविल सर्जन,आरएमओ,स्टोर कीपर समेत अन्य पाए गए दोषी,कलेक्टर महादेव कावरे ने कार्यवाही के लिए शासन को भेजी जाँच रिपोर्ट,पत्रवार्ता ने उठाया था भ्रष्टाचार का मुद्दा ,जाँच रिपोर्ट सामने आने के बाद मचा हडकंप,"पत्रवार्ता" की खबर पर लगी "मुहर," देखिये जिला अस्पताल के भ्रष्ट अधिकारियों का पुरा काला चिट्ठा......अब FIR की मांग .....?

समस्त देशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं

 



"FACT पत्रवार्ता" जिला अस्पताल घोटाला : स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर "12 करोड़" का "महाघोटाला"आया सामने,जिला प्रशासन की जांच में सिविल सर्जन,आरएमओ,स्टोर कीपर समेत अन्य पाए गए दोषी,कलेक्टर महादेव कावरे ने कार्यवाही के लिए शासन को भेजी जाँच रिपोर्ट,पत्रवार्ता ने उठाया था भ्रष्टाचार का मुद्दा ,जाँच रिपोर्ट सामने आने के बाद मचा हडकंप,"पत्रवार्ता" की खबर पर लगी "मुहर," देखिये जिला अस्पताल के भ्रष्ट अधिकारियों का पुरा काला चिट्ठा......अब FIR की मांग .....?


जशपुर,टीम पत्रवार्ता,23 जुलाई 2021

BY योगेश थवाईत 

जशपुर जिला अस्पताल में करोड़ों के फर्जीवाड़े की खबर पर पत्रवार्ता ने लगातार बेबाकी से अपनी कलम चलाई परिणामतः एक बार फिर से पत्रवार्ता लोगों के विश्वास पर खरा उतरा हैकार्यालय सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक जशपुर के द्वारा 2019-20 व 2020-21 में बिना क्रय नियमों का पालन किये,बिना टेंडर करोड़ों की खरीददारी की खबर पर जशपुर कलेक्टर महादेव कावरे ने पांच सदस्यीय जाँच टीम बनाकर मामले की जांच कराई थी जिसमें लगभग 12 करोड़ की आर्थिक अनियमितता सामने आई है।जाँच में अनियमितता सामने आने के बाद दोषी सिविल सर्जन एफ खाखा,आरएमओ अनुरंजन टोप्पो सहित,स्टोर प्रभारी व अन्य के खिलाफ कार्यवाही की अनुशंसा करते हुए कलेक्टर ने संचालक संचालनालय, स्वास्थ्य सेवाएँ रायपुर को जाँच रिपोर्ट भेज दी है।


उक्त मामले में 20 दिनों की गहन जाँच के बाद जाँच टीम द्वारा मामले की रिपोर्ट कलेक्टर को सौंपी गई है।जिसमें कई चौकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। जांच प्रतिवेदन के अनुसार वर्ष 2019-20 एवं 2020-21 में लगभग 12 करोड़ का छत्तीसगढ़ भण्डार क्रय नियम का पालन किये बिना अनियमितता की गई है। चूककर्ता सिविल सर्जन एफ खाखा,आरएमओ अनुरंजन टोप्पो सहित,स्टोर प्रभारी समेत जिम्मेदार अधिकारियों कर्मचारियों के विरुद्ध कार्यवाही की अनुशंसा की गई है।

इस टीम ने की मामले की जाँच 
आपको बता दें कि प्रारम्भ में तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन हुआ था जिसमें आपत्ति के बाद कलेक्टर महादेव कावरे ने एडिशनल कलेक्टर को शामिल करते हुए 5 सदस्यीय टीम से मामले की जाँच कराई थी।सीईओ जिला पंचायत केएस मंडावी,एडिशनल कलेक्टर आईएल ठाकुर,महाप्रबंधक उद्योग विभाग श्री पैंकरा,लेखाधिकारी जिला पंचायत ए सिन्हा व जिला कोषालय अधिकारी जीपी गिदुडे की टीम ने पुरे मामले की गंभीरता से जाँच की जिसमें लगभग 12 करोड़ की खरीदी की अनियमितता सामने आई है जिसमें क्रय नियमों का पालन नहीं किया गया वहीँ स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर फर्जी फर्मों से फर्जी खरीदी की गई है

दोषी अधिकारी अब भी पद पर 

सबसे बड़ी बात यह कि जिला अस्पताल में पदस्थ सिविल सर्जन एफ खाखा व आरएमओ अनुरंजन टोप्पो की मिलीभगत से लगातार शासकीय राशि का बंदरबाट किया गया।जिलेवासियों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए आए शासन के पैसे का जमकर दुरूपयोग किया गया।आपको जानकर हैरानी होगी की इन भ्रष्ट अधिकारीयों ने फर्जी फर्म बनाकर फर्जी खरीददारी तक को अंजाम दिया है।इतना ही नहीं बाकायदा फर्जी फर्म का फर्जी दस्तावेज बनवाकर लगातार पैसे का बंदरबाट किया गया है।इसके बावजूद सीएस व अन्य अधिकारी कर्मचारी अब भी अपने पद पर बने हुए हैं।

इनके कार्यकाल में हुई गड़बड़ी 

वर्ष 2019-20 व 2020-21  के दौरान सिविल सर्जन एफ खाखा,आरएमओ अनुरंजन टोप्पो,स्टोर प्रभारी श्रीमती उषा लकडा,लेखापाल हमीर अली,लेखापाल जोगीराम,लेखापाल सुरेश टोप्पो,लेखापाल संदीप दास,लेखापाल सुरेश टोप्पो,स्टोर लिपिक स्वाधीन साहू,तेज प्रसाद चौहान,स्टोर प्रभारी हरिप्रसाद डनसेना के पदस्थ रहते हुए उक्त अनियमितता हुई है।मामले में कार्यवाही के लिए शासन को पत्र भेजा गया है वहीँ अपराधिक प्रकरण दर्ज कर कड़ी कार्यवाही की मांग भी उठने लगी है।
  
जाँच में सामने आई अनियमितता 

आपको जानकर हैरानी होगी कि दो वर्षों में नर्सों व कर्मचारियों  के लिए 57 लाख  14 हजार 897 रूपए के केवल कपडे खरीदे गए।और मजे की बात यह है कि जिस फर्म का नामोनिशान नहीं है उस फर्म से भ्रष्ट अधिकारीयों ने खरीदी कर ली।जिसमें कुमुद टेक्सटाईल खादी गम्हरिया जशपुर को 10 लाख से ऊपर की राशि का भुगतान किया गया है।जाँच टीम को यह पता चला कि यह फर्म कड़ी ग्रामोद्योग में पंजीकृत ही नहीं है।जबकि नियमानुसार हथकरघा विकास को यह आर्डर जारी करना था वह भी भण्डार क्रय नियमों के अनुसार।मेसर्स कुमुद वस्त्रालय से भी लाखों की खरीदी बिना नियमों के की गई है।

करोड़ों की बिलिंग और स्टाक से सामान गायब 

उक्त दो वर्षों में मेडिकल सामग्री,विद्युत् सामग्री,सर्जिकल सामान,मेडिसीन,वस्त्र,कंप्यूटर समेत अन्य सामग्री की खरीदी का भुगतान सिविल सर्जन द्वारा किया गया है।जिसकी राशि लगभग 1करोड़ 67 लाख 5 हजार 704 रूपए है।विभिन्न फर्मों को उक्त राशि का भुगतान किया गया है जबकि ख़रीदे गए सामान स्टाक में उपलब्ध नहीं हैं और न ही स्टाक रजिस्टर में उनकी इंट्री की गई है।

बिना मूल्याङ्कन निर्माण का भुगतान 

लगभग 4 बिल व्हाउचर के माध्यम से फर्म सुनील मिश्रा को 21 लाख 2 हजार 635 रूपए का भुगतान निर्माण कार्य के एवज में किया गया है।जबकि उक्त निर्माण कार्य का मूल्यांकन किसी इंजिनियर द्वारा नहीं कराया गया है।वहीँ बात करें सिविल सर्जन को प्राप्त अधिकारों की तो 25 हजार से अधिक की राशि की मरम्मत ,रिपेयरिंग का अधिकार सिविल सर्जन को नहीं है जबकि 21 लाख से अधिक का भुगतान कर दिया गया है को बड़ी आर्थिक अनियमितता है। 

बिना टेंडर 7 करोड़ की खरीदी 

जिला अस्पताल द्वारा 80 बिल व्हाउचर के माध्यम से विभिन्न फार्मों से 7 करोड़ 89 लाख 35 हजार 453 रूपए की खरीदी की गई है जिसमें क्रय नियमों का पालन नहीं किया गया है।उक्त खरीदी में दवाईयां,मेडिकल सामान,उपकरण क्रय शामिल हैं।छत्तीसगढ़ भण्डार क्रय नियम 2002 के नियम 4.3.3 के तहत खुली निविदा जारी नहीं की गई है।क्रय समिति का गठन नहीं किया गया है और न ही क्रय समिति द्वारा सामग्री का भौतिक सत्यापन किया गया है।वहीँ वित्तीय नियमों की अनदेखी करते हुए श्याम सर्जिकल व मेसर्स रायपुर साईंटिफिक को करोड़ों का भुगतान किया गया है।

इसके अलावा जांच टीम को अन्य मामलों में भी आर्थिक अनियमितता मिली है जिसकी लिस्ट लम्बी है।फिलहाल विस्तृत जांच रिपोर्ट शासन को भेजा गया है जिसमें दोषी अधिकारियों कर्मचारियों पर कार्यवाही की मांग करते हुए पत्र भेजा गया है।

"मामले में जिला कलेक्टर महादेव कावरे ने बताया कि जिला अस्पताल मामले में जांच टीम द्वारा रिपोर्ट प्रस्तुत की गई है जिसमें लगभग 12 करोड़ की अनियमितता सामने आई है।सिविल सर्जन एफ,आरएमओ सहित,स्टोर प्रभारी व अन्य दोषी पाए गए हैं।कार्यवाही के लिए विस्तृत जांच रिपोर्ट संचालक संचालनालय, स्वास्थ्य सेवाएँ रायपुर को भेज दी गई है।"
 

==================================

लगातार पत्रवार्ता ने भ्रष्टाचार के मुद्दे को प्रमुखता से उठाया 

"सरोकार समस्या से समाधान तक "

==============================

इससे जुडी ख़बरों के लिए निचे लिंक पर क्लिक करें 

Link 1 - कहाँ हैं स्वास्थ्य मंत्री..? " जशपुर स्वास्थ्य विभाग में "करोड़ों" का "फर्जीवाडा"..?

Link 2 : करोड़ों" के "फर्जीवाड़े" के पीछे कौन..?

Link 3 : "सांसद गोमती साय" ने "स्वास्थ्य मंत्री" को लिया आड़े हाथों,दोषियों पर करें कार्यवाही

Link 4 : ऐतिहासिक भ्रष्टाचार" पर "गणेश राम भगत " ने दी आन्दोलन की चेतावनी

Link 5 : "युध्दवीर सिंह जूदेव "की तरकश से निकला "तीर"

Link 6 : "स्वास्थ्य मंत्री" " TS सिंहदेव ने कहा होगी मामले की जाँच

Link 7 : सिविल सर्जन व आरएमओ पर "राजपरिवार के करीबी बीजेपी नेता" ने लगाया गंभीर आरोप

Link 8 : "युध्दवीर सिंह जूदेव" ने निकाली "भ्रष्ट अधिकारियों" की कुंडली,"5 करोड़ " से अधिक...का

Link 9 : भ्रष्टाचार" को लेकर "जांच टीम" पर टिकी पूरे जशपुर की नजर

Link 10 : सांसद गोमती साय" ने खोला मोर्चा,सत्तादल के विधायकों से सीधा सवाल

Link 11 : खबर का असर : हटाए गए आरएमओ डॉ अनुरंजन टोप्पो

Link 12 : अब 5 सदस्यीय टीम" करेगी, "करोड़ों" के खरीदी की जांच

Link 13 : "CS" को अब तक क्यों नहीं हटाया गया - पूर्व मंत्री

Link 14 : युध्दवीर के फेसबुक" पोस्ट से सामने आई दोषियों को बचाने की राजनीति

Link 15 : जाँच टीम खंगाल रही रिकार्ड,श्याम सर्जिकल को 1 करोड़ से अधिक का भुगतान

Link 16 : जाँच अधूरी : "कहीं मामला ठन्डे बस्ते" में तो नहीं ...बड़ा सवाल ?

Link 17 : भ्रष्टाचार के विरोध में "जनजातीय सुरक्षा मंच" करेगी धरना प्रदर्शन

Link 18 : कलेक्टर महादेव कावरे ने कहा भण्डार क्रय नियम का गंभीरता से पालन करें

Link 19 : सीएस भी मामले को सलटाने खुलकर कर रही सहयोग


Post a Comment

0 Comments