... जाँच अधूरी : "कहीं मामला ठन्डे बस्ते" में तो नहीं ...बड़ा सवाल ? एक हफ्ते बाद भी कलेक्टर को नहीं सौंपी गई जांच रिपोर्ट,जिला चिकित्सालय के स्टोर को भरने की कवायद जारी ...?

जाँच अधूरी : "कहीं मामला ठन्डे बस्ते" में तो नहीं ...बड़ा सवाल ? एक हफ्ते बाद भी कलेक्टर को नहीं सौंपी गई जांच रिपोर्ट,जिला चिकित्सालय के स्टोर को भरने की कवायद जारी ...?

 


जशपुर,टीम पत्रवार्ता,07 जून 2021

BY योगेश थवाईत 

दरअसल जब जाँच लम्बी होने लगे तो कई सवाल खड़े होने लगते हैं,पिछले 2 वर्षों में जिला चिकित्सालय जशपुर में करोड़ों की खरीदी व भुगतान में बरती गई अनियमितता की जाँच करते जांच टीम को लगभग सात दिन हो चुके हैं और जाँच रिपोर्ट अब तक जिला कलेक्टर को नहीं सौपी गई है।जिला कलेक्टर महादेव कावरे ने बताया कि अब तक जाँच पूरी नहीं हुई है कुछ और समय लग सकता है

उल्लेखनीय है कि जिला अस्पताल जशपुर में नियमों को ताक में रखकर की गई खरीदददारी के मामले में बीजेपी के नेताओं ने जाँच की मांग की थी जिसमें 5 सदस्यीय टीम के द्वारा लगातार मामले की जाँच की जा रही है।

इंदौर से जिले में पंहुची स्ट्रेचर 

दरअसल जिला अस्पताल का मामला उजागर होने के बाद आनन फानन में अब स्टोर भरने की कवायद शुरू हो गई है।आज उस वक्त यह मामला सामने आया जब बगीचा के रायकेरा चौक में स्ट्रेचर से लदा ट्रक गुजर रहा था।जब ट्रक के चालक से पूछा गया तो उसने बताया कि इंदौर से स्ट्रेचर जिला अस्पताल जशपुर जा रहा है।आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के इंदौर की फर्म को कुछ राशि भुगतान किये जाने की प्रक्रिया शुरू की गई थी हालाकि उसका भुगतान नहीं हुआ है वहीँ अब ट्रक भरकर जिला अस्पताल में स्ट्रेचर आने से अब यह भी सवालों में है कि इसकी सप्लाई कौन किस ऑर्डर से कर रहा है।

फिलहाल मामले में जाँच टीम की जाँच पूरी नहीं हुई है  अब देखना होगा कि यह जाँच कितनी लम्बी चलती है और जाँच टीम जिला कलेक्टर को कब तक जांच रिपोर्ट सौंपती है।

Post a Comment

0 Comments