Recents in Beach


मन्त्री अमर अग्रवाल को नही पता..? शराब बन्दी जनहित का मुद्दा या परीक्षण का- शैलेष


रायपुर/ बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) मन्त्री अमर अग्रवाल एक बार फिर काँग्रेस के निशाने पर हैं। विधानसभा मे आज पीसीसी चीफ भूपेश बघेल द्वारा आबकारी मंत्री अमर से प्रश्न पूछा गया कि सरकार ने पूर्ण शराब बन्दी का वादा किया था, उसका क्या हुआ ?
खबर के अनुसार मन्त्री अमर ने जवाब दिया कि 
शराब बन्दी परीक्षण का विषय है। 
रिपोर्ट आयेगी तब,मतलब अमर अग्रवाल जी ये 
नही कह रहे कि शराब बन्दी जनहित का विषय है। 
उनको समिति के परिक्षण रिपोर्ट का इन्तजार है। 
वो इसको जनहित का विषय नही मानते या मानना नही चाहते है। 

शराब बन्दी का झुठा वादा प्रदेश की जनता से करने वाले मन्त्री और इनकी सरकार समिति की रिपोर्ट का सहारा लेकर प्रदेश मे शराब का धन्धा करने मे लगी है और मुनाफा कमा रही है। सरकार शराब को चुनाव मे हथियार बनाने के जुगाड मे है। जनता के हितो का ध्यान नही रखा जा रहा है।


रोजाना शराब के कारण दुर्घटना व मौतें हो रही हैं। विधानसभा मे उनका ये जवाब दर्शाता है कि उनको शराब की बिक्री से कितना लगाव है और वे शराबबंदी के लिए कोई पहल नही कर रहे है। समिति के आड़ मे केवल जनता के हितो की अन्देखी कर रहे है।

कांग्रेस लगातार भूपेश बघेल के नेतृत्व मे हर मोर्चे पर जनहित व शराब बन्दी के लिये सरकार को पूरे प्रदेश मे घेर रही है और जनता के हित के लिये संघर्षरत है।

==================================
"रियासत की सियासत"पहुंची सड़कों पर,असली जूदेव कौन...? "बड़ा सवाल"

Post a Comment

0 Comments