... अच्छी पहल-महिला बंदियों के रोजगार व पुनर्वास के लिए राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय करेंगी सरकार से बात।

अच्छी पहल-महिला बंदियों के रोजगार व पुनर्वास के लिए राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय करेंगी सरकार से बात।

सेंट्रल जेल के निरीक्षण में मिली कई खामियां। 

बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) छग राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पांडे ने  केंद्रीय जेल बिलासपुर का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने महिला बैरकों में जाकर जेल में बंद महिला बंदियों से मुलाकात कर मिलने वाली सुविधा व कमियों का जायजा लिया। 

निरीक्षण के बाद मीडिया से चर्चा में उन्होंने बताया कि 
राज्य महिला आयोग प्रदेश के सभी 9 जेल जहां महिला बंदी हैं,उनका निरीक्षण कर रहा है। इस दौरान जेल मैनुअल के आधार पर महिला बंदियों व उनके बच्चों को मिलने वाली शिक्षा,स्वास्थ्य,रोजगार व अन्य सुविधाओं की स्थिति का जायजा लिया जा रहा है। साथ ही जो कमियां सामने आ रही हैं उन्हें सुधारने के निर्देश दिए जा रहे हैं। 


बिलासपुर सेंट्रल जेल के निरीक्षण के दौरान पांडेय ने बताया कि लम्बे समय से जेल में बंद महिला बंदियों के रोजगार व मिलने वाली राशि के इन्वेस्टमेंट प्लान को लेकर कमियां सामने आई हैं। उन्होंने बताया कि जो महिला बंदी लम्बे समय से सजा काट रही हैं, छूटने के बाद वो आर्थिक दृष्टि से कमजोर पड़ जाते हैं। ऐसे में जो कुशल व अुकुशल श्रमिक बंदी है उन्हे मिलने वाली राशि का इन्वेस्टमेंट प्लान होना चाहिए।

जिससे भविष्य उनका सुदृण हो सके। पांडेय ने जेल में लाइवलीहुड एक्टिविटी की कमी को लेकर भी असंतोष जताया। उनका कहना था कि जेल में बंद बंदियों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार के अवसर दिए जाने चाहिए। पांडेय ने निरीक्षण पूर्ण करने के बाद विस्तृत विजिट रिपोर्ट शासन को सौपनें की बात कही है। गौरतलब है कि बिलासपुर सेंट्रल जेल में लगभग 225 महिला बंदी हैं जिनमे कई सजायाफ्ता तो कई ट्रायल में हैं।
=============================
क्लिक करें...
"शैलेष पांडेय ने किसान के आत्महत्या मामले पर सरकार को कटघरे में खड़े किया।"

Post a comment

0 Comments