... राजनीति : "जनपद अध्यक्ष" के खिलाफ "अविश्वास प्रस्ताव"लेकर पंहुचे BDC "बैरंग" वापस लौटे ,महिला बीडीसी ने लगाया गंभीर आरोप कहा "फर्जी दस्तखत" कर "अविश्वास प्रस्ताव" पारित कराना "लोकतंत्र की हत्या" है,गरमाने लगी राजनीति..मामले में आया नया मोड़,अब BJP पुरी तैयारी के साथ .....पढ़िए पुरी खबर ..समझिये माजरा ...

आपके पास हो कोई खबर तो भेजें 9424187187 पर

राजनीति : "जनपद अध्यक्ष" के खिलाफ "अविश्वास प्रस्ताव"लेकर पंहुचे BDC "बैरंग" वापस लौटे ,महिला बीडीसी ने लगाया गंभीर आरोप कहा "फर्जी दस्तखत" कर "अविश्वास प्रस्ताव" पारित कराना "लोकतंत्र की हत्या" है,गरमाने लगी राजनीति..मामले में आया नया मोड़,अब BJP पुरी तैयारी के साथ .....पढ़िए पुरी खबर ..समझिये माजरा ...

जशपुर,टीम पत्रवार्ता,18 अगस्त 2021

BY योगेश थवाईत

इन दिनों जशपुर जिले के बगीचा जनपद पंचायत में जमकर उथल पुथल मची हुई है।जनपद अध्यक्ष जगन राम के खिलाफ जनपद सदस्य अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी में लगे हुए हैं।हांलाकि अन्दर खाने से पुष्ट खबर है कि कुछ जनपद सदस्यों के फर्जी हस्ताक्षर कर बहुमत सिद्ध करते हुए अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी कुछ बीडीसी कर रहे हैं।जिसमें सभी जनपद  सदस्यों की सहमति नहीं है।वहीँ कल कलेक्टर द्वारा बहुमत के साथ जनपद सदस्यों की उपस्थित की बात कहते हुए 7 सदस्यों को वापस लौटा दिया गया जिसके बाद अब बीजेपी सभी जनपद सदस्यों को एकजुट कर अविश्वास प्रस्ताव की फिर से तैयारी कर रही है

इधर जनपद पंचायत बगीचा की महिला जनपद सदस्य अशिका कुजूर ने अपने फेसबुक पोस्ट के माध्यम से स्पष्ट किया है कि फर्जी सिग्नेचर के भरोसे जनपद अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित करना लोकतंत्र की ह्त्या है।उन्होंने क्या लिखा है अपने फेसबुक में अक्षरशः पढ़ें.... 

लिंकआशिका कुजूर के फेसबुक पेज में जाएं

(फेसबुक वाल से)

मैंने कभी भी बगीचा जनपद में पक्ष विपक्ष नहीं देखा... सबको बराबर का सम्मान दिया है.अब अगर आपने खुद को विपक्ष मान कर बगावत करने का फैसला कर ही लिया है तो कोई बात नहीं... 

लेकिन बस इतना याद रखियेगा कि फर्जी सिग्नेचर कर के अविश्वास का प्रस्ताव पारित करवाना लोकतंत्र की हत्या है।

छल कपट करके सत्ता पलटना बीजेपी का काम है ये पूरा देश जानता है... लेकिन बगीचा वालों से ऐसी उम्मीद नहीं थी।साम,दाम,दंड,भेद तो होता रहेगा राजनीति में।आपसी संबंध ख़राब नहीं होने चाहिए।सभी जनप्रतिनिधियों की पहली प्राथमिकता क्षेत्र का विकास ही है। और जहाँ कोई व्यक्तिगत विकास के उद्देश्य से कार्य करते हैँ तो जनता उन्हें सबक सिखा देती है।साफ सुथरे तरीके से मैदान में आइये...हम दुबारा संघर्ष करके जीत हासिल करेंगे.

#जय_कांग्रेस #संदर्भ - जनपद पंचायत बगीचा (जशपुर)

मामले में जब जनपद सदस्य अशिका कुजूर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि कुछ दिनों से कुछ बीडीसी इसकी तैयारी में लगे हुए थे।मंगलवार को 7 बीडीसी जशपुर कलेक्टर के पास अविश्वास प्रस्ताव पारित कर आवेदन लेकर जशपुर पंहुचे थे जहाँ जिला कलेक्टर महादेव कावरे ने उनका आवेदन अस्वीकार कर दिया।दरअसल पारित प्रस्ताव में लगभग 18 जनपद सदस्यों के हस्ताक्षर थे वहीँ मौके पर सिर्फ 7 सदस्य मौजूद थे।लिहाजा सभी सदस्यों की उपस्थिति में कलेक्टर ने आवेदन लेने की बात कहते हुए उन्हें बैरंग लौटा दिया।

इधर सूत्रों की मानें तो कुछ बीडीसी अपने निजी स्वार्थ के लिए अन्य जनपद सदस्यों को बरगलाने में लगे हुए हैं जिन्हें राजनैतिक संरक्षण मिलने की बात कही जा रही है।हांलाकि अविश्वास प्रस्ताव के लिए लगभग 18 जनपद सदस्यों की आवश्यकता है।फिलहाल सभी जनपद सदस्यों में अविश्वास प्रस्ताव पारित किये जाने को लेकर सहमती नहीं बन पाई है।लिहाजा अविश्वास प्रस्ताव का मामला खटाई में नजर आ रहा है।


इधर मामले में बगीचा जनपद पंचायत के अध्यक्ष जगन राम का कहना है कि 

उनका एकमात्र लक्ष्य विकास है क्षेत्र का विकास उनकी पहली प्राथमिकता है।कुछ विपक्षी हमारे जनपद सदस्यों को बरगलाने की कोशिश कर रहे हैं जिसमें वे सफल नहीं हो पाएँगे।उन्होंने सभी जनपद सदस्यों को एकजुट रहकर क्षेत्र के विकास के लिए मिलकर कार्य करने का निवेदन किया है।


वहीँ सूत्रों की मानें तो बीजेपी समर्थित सदस्य अपने शीर्ष नेतृत्व के साथ आज अविश्वास प्रस्ताव लेकर जिला कलेक्टर के पास जाने की तैयारी कर रहे हैं।विपक्ष का दावा है कि उनके पास लगभग 15 जनपद सदस्य मौजूद हैं वहीँ 3 सदस्य जल्द ही उनके पास होंगे।इधर कांग्रेस समर्थित जनपद अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी से सत्तादल के नेता जोड़ तोड़ में लगे हुए हैं।अब देखना होगा कि किसका बहुमत सिद्ध हो पाता है।

Post a Comment

0 Comments