... बिलासपुर रोजा इफ्तार मामला-आखिर एक ही अतिथि ही क्यों ? अतिथि बनाने को लेकर फिर छिड़ी जंग

बिलासपुर रोजा इफ्तार मामला-आखिर एक ही अतिथि ही क्यों ? अतिथि बनाने को लेकर फिर छिड़ी जंग


बिलासपुर (पत्रवार्ता.कॉम) शहर में अतिथि बनाने का जिन्न एक बार फिर से बाहर आ गया है। इस बार ये विवाद सम्प्रदाय विशेष और शहर विधायक के एक सिपहसलार के बीच का है। जिसमें समर्थक ने उनके चहेते शहर विधायक व मंत्री को अतिथि न बनाने की स्थिति में हंगामा खड़ा कर दिया।


दरअसल मामला रोजा इफ्तार के दावत में मुख्य अतिथि बनाने से जुड़ा हुआ है। भाजपा के एल्डरमेन मकबूल खान ने तालापारा में आयोजित इफ्तार के दावत में मंत्री महोदय को मुख्य अतिथि बनाने की मांग की। लेकिन समाज ने पहले ही बतौर अतिथि काँग्रेस नेता शैलेष पांडेय व अन्य का नाम तय कर दिया था। लिहाज़ा समाज ने मंत्री महोदय को अतिथि बनाने से इनकार कर दिया।

 "इधर ये इनकार मंत्री के सिपहसालार को इस कदर नागवार गुजरा कि उसने अपने आका की शान में समाज के लोगों से ही झूमाझटकी कर कार्यक्रम बाधित करने की कोशिश तक कर दी, और मामला थाने तक जा पहुँचा।"

हालांकि ये पहला मौका नही है जब शहर में अतिथि बनाने को लेकर विवाद खड़ा हुआ है। इससे पहले भी समर्थक अपने आका मंत्री महोदय की जगह काँग्रेस नेता शैलेष पांडेय को अतिथि बनाने को लेकर विवाद खड़ा कर चुके हैं। 

बहरहाल सत्ता के नशे में चूर भामाशाहों के राजनीति का सच अब जनता के सामने है, जो खुद को स्वयंभू मान जबरन अपने को जनता पर थोपना चाहते हैं।

Post a comment

0 Comments