... उसे कहाँ पता था मिलेगा जुड़वा बच्चों का सुख

उसे कहाँ पता था मिलेगा जुड़वा बच्चों का सुख

(योगेश थवाईत)
जशपुर (पत्रवार्ता) उसकी मौत न पुलिस रोक पाई,न पंचायत,न सामाजिक न्याय व्यवस्था ,वो चाहती थी उसके जीवन में भी खुशियाँ हों,पर उसे कहाँ पता था की उसकी जिंदगी के साथ दो और जिंदगी ख़त्म हो गई..आप जानकार दाँतों तले उँगलियाँ दबाने पर मजबूर हो जाएंगे जब जानेंगे पीड़ित मृतिका की संघर्ष भरी दास्ताँ और जुड़वा बच्चो के मौत का सच ..?


यह कोई काल्पनिक कहानी नहीं सच्चाई है सामाजिक सम्वेदनशीलता की जिसे हम खोते जा रहे हैं ...मामला कुछ ख़ास हो न हो पर यहाँ ख़ास है तीनों जिंदगी,जिसे खुशियाँ नसीब नहीं हो पाई,जी हाँ हम बात कर रहे हैं बगीचा थाना इलाके में हुई एक वारदात की जिसमे न केवल पीड़ित मृतिका की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई बल्कि उसकी मौत के साथ 7 महीने के जुड़वा गर्भस्थ शिशु की जिंदगी भी समाप्त हो गई ..

पीड़ित मृतिका के परिजनों ने जब मामले की हकीकत पंचायत और समाज के सामने रखी तो सामाजिक बैठक में आरोपी निकेश पैंकरा और उसके परिवार वालों ने मृतिका को अपनाए जाने का वादा किया और 1 मार्च को सगाई की तारीख भी मुकर्रर कर दी..,उसे कहाँ पता था की उसके संजोये सपने बिखर कर चूर चूर हो जायेंगे आरोपी प्रेमी ने शादी से इनकार कर दिया और मामला जा पंहुचा बगीचा थाने...पीड़िता की शिकायत पर निकेश के खिलाफ 8 मार्च को अनाचार का मामला दर्ज हो गया .....अब भी उसे आस थी की निकेश उसे अपना लेगा पर वह गलत थी निकेश ने उसे नहीं अपनाया ...उसकी गलती न होने के बाद भी लोक लाज और समाज का डर उसे सता रहा था जिसे लेकर वह परेशान थी ... 

11 मार्च का दिन पीड़िता की जिंदगी का आखिरी  दिन  साबित हुआ ..पीड़ित मृतिका की मां ने बताया की उसकी बेटी को 3 साल से आरोपी निकेश शादी की बात कहकर उसका दैहिक शोषण कर रहा था वहीँ  मृतिका 7 माह की गर्भवती भी थी...आज भोर में मृतिका घर से निकली और सुबह उसका मृत शरीर पेड़ के निचे मिला ...जिसके सर में चोट का निशान भी था ..मामले की जानकारी बगीचा पुलिस को दी गई जिसके बाद मर्ग कायम कर मामले की विवेचना शुरू कर दी गई वहीँ शव पंचनामा कर पीएम के बाद परिजनों को शव सौंप दिया गया...

"अनाचार पीड़िता के मौत के साथ गर्भस्थ जुड़वा शिशुओं की मौत ने समाज के सामने कई सुलगते हुए सवाल खड़े किये हैं ...जिसे समझना बेहद जरुरी है "

फिलहाल बगीचा पुलिस पीड़िता के मौत के कारणों का पता लगाने में जुटी हुई है वहीँ अब देखना होगा की आरोपी पर क्या कार्यवाहीं होती है ..फिलहाल आरोपी फरार बताया जा रहा है..
========================================================================

कैसे महफूज रहेंगी महिलाएं 
http://www.patravarta.com/2018/03/blog-post_68.html



Post a comment

0 Comments