... सरस्वती शिशु मंदिर के आचार्य पर दैहिक शोषण का आरोप

सरस्वती शिशु मंदिर के आचार्य पर दैहिक शोषण का आरोप



कटघरे में स्कूल प्रबंधन,आरोपी शिक्षक पर दो छात्राओं ने दर्ज कराया मामला 


जशपुर(पत्रवार्ता.कॉम) जिले में शिक्षा जगत को फिर से शर्मसार किये जाने का मामला सामने आया है,दो नाबालिग छात्राओं ने बगीचा में संचालित सरस्वती शिशु मंदिर के आचार्य पुरन्दर राम यादव पर अनाचार के प्रयास समेत दैहिक शोषण का आरोप लगाया है.बगीचा पुलिस द्वारा महिला अधिकारी के समक्ष जांच के बाद आरोपी शिक्षक के खिलाफ पोक्सो एक्ट समेत अनाचार के प्रयास का मामला पंजीबद्ध किया गया है

शिक्षा देने वाले आचार्य ने न केवल गुरु शिष्य की परंपरा को कलंकित किया है बल्कि संस्कार परक शिक्षा में अपनी अमिट पहचान रखने वाले सरस्वती शिशु मंदिर विद्यालय प्रबंधन को भी कटघरे में लाकर खड़े कर दिया है .मामला दो नाबालिग छात्राओं के साथ अश्लील हरकत व अनाचार के प्रयास का है .लिहाजा पुलिस द्वारा इस बेहद संवेदनशील मामले को गंभीरता से ले रही है.

मामले में पीड़ित छात्राओं ने अपने साथ हुए घटना की जानकारी अपने स्कुल की शिक्षिका को दी जिसके बाद सखी सेंटर में सूचना के बाद जिले की टीम छात्रा के घर पंहुची और मामले की जानकारी ली गई जिससे मामले का खुलासा हुआ.
मामले में पीड़ित छात्राओं ने  सरस्वती शिशु मंदिर बगीचा में पदस्थ शिक्षक पुरंदर राम यादव पर कई गंभीर आरोप लगाये हैं.जिसमे आरोपी शिक्षक क्लास रूम में उन्हें मनमाने तरीके से छेड़ता था वहीँ अकेले में मिलने का दबाव बनाता था.पीड़िता ने बताया की कमरे में अनाचार का भी प्रयास शिक्षक के द्वारा किया गया है.पीड़ित छात्राओं को इस कदर डरा दिया गया था कि वे अपनी आपबीती तक नहीं बता पा रहीं थीं .उन्हें शिक्षक द्वारा परीक्षा में फेल किये जाने की धमकी भी दी गयी थी जिसे लेकर वे काफी तनाव में थीं.

मामले में जांच कर रहीं एसडीओपी पद्मश्री तंवर ने बताया की उक्त मामले में पीड़ित पक्ष का बयान लिया गया जिसमे छात्राओं ने शिक्षक पर लगाये गए आरोपों की पुष्टि की है जिसपर शिक्षक पुरंदर यादव के खिलाफ पोस्को एक्ट व अनाचार का प्रयास किये जाने के धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है 

जशपुर में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की यह कोई पहली घटना नहीं इसके पहले  कुनकुरी थाना इलाके में भी एक छात्रा के साथ अश्लील हरकत की जाँच में शिक्षक को निलंबित कर दिया गया था वहीँ आरोपी शिक्षक आलोक स्वर्णकार पर अब तक एफआईआर दर्ज नहीं कराई गई है दूसरा मामला है बगीचा थाना ईलाके का जहाँ कन्या स्कुल के प्रिंसिपल अमृत राम निकुंज व व्याख्याता भुनेश्वर अल्फ़ा द्वारा छात्रा को परीक्षा में पास करने के नाम पर उसके साथ छेड़छाड़ की गई थी जिसमे निलंबन के साथ थाने में मामला भी दर्ज कराया गया था बावजूद इसके अब तक गिरफ्तारी नहीं हुई है 


गौरतलब है की सरस्वती शिशु मंदिर शिक्षा के साथ संस्कार के लिए जाना जाता है जहाँ  शिक्षकों के द्वारा बच्चों को संस्कार परक शिक्षा दी जाती है यहाँ जब शिक्षक ही छात्राओं पर बुरी नजर रखने लगें और मौका देखकर उनके साथ अनाचार का प्रयास करें तो छात्राओं की सुरक्षा को लेकर भी कई सवाल खड़े हो रहे हैं.वहीँ छात्राएं अपने साथ हुए घटना को लेकर काफी भयभीत हैं.फिलहाल स्कुल प्रबंधन इस मामले पर खामोश है.प्रशासनिक अमले द्वारा पूरी  जांच रिपोर्ट जिला प्रशाशन को भेजे जाने की बात कही है.

Post a comment

0 Comments