... भ्रष्टाचार : जशपुर जिले में PWD की ऐसी इंजीनियरिंग..? मानक मापदंडों के अनुसार न बेस न ढलाई....? गलती छिपाने किया ये काम ..? गुणवत्ताविहीन घटिया निर्माण,नई सड़क में दरार से भड़के विधायक रामपुकार,लम्बे समय से पत्थलगांव में जमे PWD के इंजीनियर कैथल ने दी सफाई ......? ये है पूरा मामला ..? उच्चस्तरीय जाँच से नपेंगे अधिकारी ...?

आपके पास हो कोई खबर तो भेजें 9424187187 पर

भ्रष्टाचार : जशपुर जिले में PWD की ऐसी इंजीनियरिंग..? मानक मापदंडों के अनुसार न बेस न ढलाई....? गलती छिपाने किया ये काम ..? गुणवत्ताविहीन घटिया निर्माण,नई सड़क में दरार से भड़के विधायक रामपुकार,लम्बे समय से पत्थलगांव में जमे PWD के इंजीनियर कैथल ने दी सफाई ......? ये है पूरा मामला ..? उच्चस्तरीय जाँच से नपेंगे अधिकारी ...?

 


पत्थलगांव,टीम पत्रवार्ता,20 जनवरी 2022

BY प्रदीप ठाकुर 

जशपुर जिले के पत्थलगांव लोक निर्माण विभाग में भ्रष्टाचार की ऐसी बानगी देखने को मिली जहाँ तकनीकी मापदंडों के सारे नियम कायदों को दरकिनार कर ठेकेदार व इंजीनियर ने मिलकर 17 लाख की सीसी रोड का गुणवत्ताविहीन निर्माण कर भ्रष्टाचार का नया इतिहास रच दियानई सीसी रोड बनते ही उसमें दरार आ गई जिसके बाद सड़क  की मोटाई व गुणवत्ता को लेकर भी सवाल खड़े हो रहे हैं ।दरअसल उक्त निर्माण कार्य में सड़क की मोटाई हर जगह अलग अलग है वहीँ मानक मापदंडों के अनुसार सड़क का कार्य नहीं किया गया हैउक्त कार्य में गुणवत्ताविहीन घटिया निर्माण की बात सामने आ रही है।ख़ास बात यह कि इस सड़क का भूमिपूजन विधायक रामपुकार सिंह के हाथों हुआ था।विभाग के लापरवाह इंजीनियर व ठेकेदार ने मिलकर ऐसा कार्य किया जिससे विधायक के साख पर कई सवाल खड़े कर दिए।इधर जिला कलेक्टर के निर्देशों का भी विभागों पर कोई असर होता नहीं दिख रहा है

उल्लेखनीय है कि पत्थलगांव लोक निर्माण विभाग के द्वारा टेंडर के माध्यम से बागबहार कन्या हाईस्कूल परिसर में सीसी रोड का कार्य कराया गया है।लोक निर्माण विभाग के इंजीनियर कैथल ने बताया की लगभग 180 मीटर की सड़क ठेकेदार राहुल पोटवानी के द्वारा  लगभग 17 लाख की लागत से निर्माण की गई है।लोक निर्माण विभाग के एसओआर दर से लगभग 4 प्रतिशत कम दर पर यह निविदा स्वीकृत हुई है।

दरअसल लम्बे समय से घटिया निर्माण को लेकर पत्थलगांव का लोक निर्माण विभाग सुर्ख़ियों में रहा है।उक्त निर्माण में भी जमकर भ्रष्टाचार की खबर है।सड़क की मोटाई एस्टीमेट से कम बताई जा रही है वहीँ मानक मापदंडों का पालन भी उक्त निर्माण में नहीं दिख रहा है।

12 इंच की जगह मात्र 7 इंच की ढलाई

दरअसल लोक निर्माण विभाग के एस्टीमेट के अनुसार सीसी रोड के निर्माण में सबसे पहले मुरम बिछाकर निर्माण स्थल को समतल किया जाता है उसके बाद जीएसबी मिक्स,डब्ल्यूएमएम, व एम 10 के बेस के बाद ढलाई किए जाने का प्रावधान है।जिसके बाद जीएसबी के ऊपर सड़क की मोटाई 30 सेंटीमीटर लगभग 1 फीट होनी चाहिए।यहाँ सड़क की मोटाई मानक मापदंडों से कम है।कई स्थानों पर मात्र 7 इंच की ढलाई है तो कहीं अधिकतम 9 इंच और कहीं 6 इंच की मोटाई नजर आ रही है।इससे आप समझ सकते हैं कि किस कदर उक्त कार्य में जमकर भ्रष्टाचार किया गया है।देखिये वीडियो में किस प्रकार नए सीसी रोड में दरार आ गई है। 

वीडियो 

पत्थलगांव लोक निर्माण विभाग में लम्बे समय से जमे  इंजिनियर श्री कैथल से जब मामले में बात की गई तो उन्होंने सफाई देते हुए बताया कि नई सड़क में कटिंग नहीं की गई है जिसके कारण दरारें आई हैं उन्हें भरवाए जाने की बात उन्होंने कही है।वहीँ सड़क इ मोटाई व बेस को भी उन्होंने सही बताया है जबकि मौके पर न तो सड़क इ मोटाई सही है न ही नियमानुसार बेस किया गया है।अब सवाल यह उठता है कि बिना इंजीनियर की संलिप्ता के ठेकेदार ने ऐसी मनमानी कैसे कर दी..?

विधायक का निर्देश बेअसर

इधर जब मामले की जानकारी पत्थलगांव के विधायक रामपुकार सिंह को मिली तो उन्होंने पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जाहिर करते हुए ईई पीके गुप्ता को जमकर फटकार लगाईं और तत्काल गुणवत्तापूर्ण कार्य के निर्देश दिए।हांलाकि विधायक महोदय के नाराजगी का असर अब तक नहीं हुआ है और साईट पर अब भी काम बंद है।

नई सड़क में आई दरार 

आसपास के लोगों ने बताया कि जहाँ नए सड़क का निर्माण हुआ है वहां कुछ जगहों पर रोड में दरार आ गई है।  फिलहाल सड़क के दोनों ओर मिटटी डालकर सड़क की मोटाई को छिपाने का प्रयास किया जा रहा है।वहीँ अधिकारी इस मामले मेकुछ भी बोलने से बच रहे हैं।अब देखना होगा कि सड़क निर्माण में हुए इस भ्रष्टाचार पर जिला प्रशासन क्या कार्यवाही करती है वहीँ इस घटिया निर्माण को कैसा पुरा कराती है ।

Post a Comment

0 Comments