... फोकस: नरवा, गरुवा, घुरूवा, बाड़ी योजना में इसरो की मदद लेगी सरकार, ड्रीम प्रोजेक्ट पर सीएम का फोकस..

फोकस: नरवा, गरुवा, घुरूवा, बाड़ी योजना में इसरो की मदद लेगी सरकार, ड्रीम प्रोजेक्ट पर सीएम का फोकस..


रायपुर (पत्रवार्ता.कॉम) छग में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए शुरू की गई नरवा, गरुवा, घुरूवा, बाड़ी परियोजना को गति देने के लिए राज्य सरकार भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो)की मदद लेगी। गौठान  बनाने के लिए जमीन का चयन करने में इसरो की जियो मैपिंग प्रणाली का उपयोग किया जाएगा। सीएम बघेल ने इस पर काम करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा है कि इस परियोजना में जन सहभागिता भी सुनिश्चित की जाए। 


लोकसभा चुनाव के समाप्त होते ही सीएम बघेल ने ड्रीम प्रोजेक्ट नरवा, गरुवा, घुरूवा, बाड़ी को फिर से फोकस किया है। सोमवार को मुख्यमंत्री निवास में बघेल ने परियोजना पर अब तक हुए काम की समीक्षा करते हुए आगे की कार्य योजना पर चर्चा की। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव ने बताया कि 27 जिलों में 1866 गौठान स्वीकृत किये गए हैं।प्रत्येक गौठान के लिए पांच से छः एकड़ जमीन आवंटित की गई है। कुल 9 हज़ार 999 एकड़ जमीन आबंटित की जा चुकी है। हर विकासखंड में दो-दो मॉडल गौठान आबंटित किये गए हैं। गौठानों के विकास के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत लगभग 305 करोड रुपए स्वीकृत किए गए हैं। इसी तरह सभी जिलों में 847 चरागाहों के विकास के लिए लगभग 59 करोड रुपए स्वीकृत हुए हैं।चरागाहों के लिए  13 हज़ार 382 एकड़ जमीन आवंटित की गई है। 

बैठक में मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव  गौरव द्विवेदी, मुख्यमंत्री सलाहकार प्रदीप शर्मा सहित संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।




Post a comment

0 Comments