... पहल:- धर्मार्थ चिकित्सालय जशपुर में बिना पेट खोले बच्चेदानी का हुआ सफल आपरेशन

पहल:- धर्मार्थ चिकित्सालय जशपुर में बिना पेट खोले बच्चेदानी का हुआ सफल आपरेशन


जशपुर(पत्रवार्ता) कल्याण आश्रम धर्मार्थ चिकित्सालय में तीन दिवसीय शल्य चिकित्सा शिविर का शुभारंभ  किया गया।अब तक 15 मरीजों का आपरेशन किया जा चूका है, 8 गंभीर प्रकृति  के मरीज थे वहीं दो सामान्य आपरेशन हुए

शिविर में गंभीर से रूप से ग्रसित तीन मरीजों के बच्चेदानी का महत्वपूर्ण आपरेशन किया गया, जिसकी खासियत यह रही कि बिना पेट खोले विशेष चिकित्सकों ने सफल आपरेशन किया


उद्घाटन अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में समाजसेवी भवेश गुप्ता, सीमा गुप्ता थेविशिष्ट रूप से डॉ उदय यार्दे, डॉ सुनिता यार्दे,प्रकाश काले,डॉ आशुतोष माली, डॉ प्रवीण, डॉ जितेंद्र,श्रीमती अर्चना, श्री कैशलार, डॉ अनिश गोलछा, सपना, पूजा रतलाम, डॉ मृगेंद्र सिंह, संजय पाठक, सोनू पांडे सहित शिविर के लिए आए चिकित्सकगण एंव कल्याण आश्रम के पदाधिकारी उपस्थित रहे

उदघाटन के साथ ही चिकित्सकीय सेवा सहित समाजिक क्षेत्र में निस्वार्थ कार्यों को लेकर कार्यकर्ताओं का परिचय कराते हुए उनका सम्मान किया गयाशल्य चिकित्सा शिविर का उदघाटन मुख्य अतिथि के द्वारा भगवान धनवंत्री एंव मां भारती के तैल्य चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन कर किया गया इस अवसर पर मुख्य अतिथि भवेश गुप्ता ने कहा कि कल्याण आश्रम के माध्यम से आयोजित शल्य चिकित्सा शिविर यहां के ग्रामीण मरीजों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है


यहां के गरीब ग्रामीण मरीज जो बड़े शहरों में आपरेशन के लिए नहीं जा सकते हैं,उन्हें यहां के शिविर में वही सुविधा मिल रही है जो बड़े अस्पतालों में उपलब्ध होते हैं उन्होंने अतिथि चिकित्सकों का आभार व्यक्त कियाउदघाटन सत्र का संचालन करते हुए चिकित्सालय समिति के सदस्य सत्य प्रकाश तिवारी ने बताया कि दूसरे राज्यों से आकर चिकित्सक इस धर्मार्थ कार्य में सेवा दे रहे हैं

यह यहां के बड़े चार शिविरों में से एक है,जिसका लाभ वनवासियों को मिलेगाशिविर के संबंध में जानकारी देते हुए रतलाम से आए चिकित्सक डॉ उदय यार्दे ने जानकारी देते हुए बताया कि पहले दिन के शिविर में 10 मरीजों का आपरेशन किया गया जो लंबे समय से विभिन्न रोग से ग्रसित थे उन्होंने बताया कि 10 आपरेशन में 8 गंभीर प्रकृति के थे, जिन्हें बड़ी राहत मिली और सफल आपरेशन हुआ

तीन आपरेशन बच्चादानी का हुआ जो बिना चीरा लगाए, बिना पेट खोले किया गयाइसके अतिरिक्त बवासीर व हाइड्रोसील सहित अन्य आपेरशन किए गए डॉ उदय यार्दे ने बताया कि अगले दिन तक और आपरेशन किए जाएंगेसाथ ही विशेषज्ञ चिकित्सकों के द्वारा चिकित्सीय सलाह भी दिया जा रहा है

 पूर्व में देखे गए मरीजों को भी मार्गदर्शन व उनकी स्थिति से चिकित्सक अवगत हो रहे हैं इस शिविर में नगर के युवाओं के द्वारा भी योगदान दिया जा रहा है और मरीजों के भोजन,नास्ते आदि का प्रबंधन युवा कार्यकर्ता करने में जुटे हैंसंवेदना समूह की कार्यकर्ता श्रीमती शशी साहू,धर्मजीत महंत,संजय दास ने बताया कि सुबह मरीजों के आहार की व्यवस्था संवेदना समूह के द्वारा की गई

Post a comment

0 Comments