Recents in Beach


सियासत:कांग्रेस को कमज़ोर करने की नीति पर काम शुरू,प्रदेश दौरे पर आये भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निशाने पर सिर्फ और सिर्फ काँग्रेस..


बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम)छत्तीसगढ़ में चुनावी बिगुल बजते ही प्रमुख विपक्ष कांग्रेस को कमज़ोर करने की नीति पर भाजपा ने काम शुरू कर दिया है। प्रदेश दौरे पर आये भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मंच से काँग्रेस के खिलाफ मुखर होकर इसका शंखनाद कर दिया है।


कार्यकर्ता सम्मेलन के बहाने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आज से प्रदेश के चुनावी दौरे पर हैं। अम्बिकापुर व बिलासपुर में उन्होंने सभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने काँग्रेस को कमजोर करने की नीति के तहत काँग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी,सोनिया,मनमोहन से लेकर काँग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बघेल तक पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस संगठन विहीन है, बघेल सीडी दिखाने वाले प्रदेश अध्यक्ष हैं। आज उन्हें सीडी वाले अध्यक्ष बोलते है। शाह यहीं नहीं रुके उन्होंने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर हमले बोले  उन्होंने राहुल गांधी पर व्यंगात्मक लहज़े में प्रहार कर राहुल बाबा कहते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी और भाजपा सरकार अंगद का पांव है। जिसे कोई नही उखाड़ सकता। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास नीति और सिद्धान्त नही है केवल करप्शन है। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को मूल से उखाड़ फेंकने का काम करना है। शाह ने राहुल गांधी का नाम लेते हुए कहा कि आप कितना भी  घुसपैठियों का पक्ष लें, 2019 के बाद पूरे देश से घुसपैठियो को बाहर निकाल कर रहेंगे।

शाह ने इस दौरान केंद्र सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि बीमारू छत्तीसगढ़ को देश के सबसे विकसित राज्य बनाने की तरफ कदम बढ़ाया गया है। छत्तीसगढ़ का विजय 2019 की नींव डालने के लिए है। शाह ने अपने भाषण के दौरान जनता से वादा किया कि अगले 5 साल में छग देश का सबसे विकसित राज्य बनेगा। आगे उन्होंने कहा कि  छत्तीसगढ़ के लोग समझते है कि यूपीए सरकार ने 10 साल तक छत्तीसगढ़ के साथ घोर अन्याय किया है। मोदी सरकार ने कांग्रेस सरकार से 3 गुना ज्यादा पैसा छत्तीसगढ़ को दिया है। 

बहरहाल अमित शाह ने अपने पूरे भाषण के दौरान कार्यकर्ताओं में जहां जोश भरने का काम किया तो वहीं कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। शाह के दौरे व भाषण से एक बात साफ हो गई है कि छत्तीसगढ़ में चुनावी बिगुल बजते ही प्रमुख विपक्ष कांग्रेस को कमज़ोर करने की हर नीति पर भाजपा ने काम करना शुरू कर दिया है। तो वही जोगी और मायावती इनके निशाने से नदारत हैं। अलबत्ता कौन दोस्त है और दुश्मन इसका पता तो नतीजे आने के बाद ही पता चल पायेगा।

Post a Comment

0 Comments