इस नगर पंचायत के कारनामे जो आपको हैरान कर देंगे,गुमटी के स्थान पर पक्का निर्माण,नगर पंचायत मौन

By Pradeep Thakur

पत्थलगाँव(पत्रवार्ता.कॉम) जब किसी पद पर कोई रसूखदार बैठ जाए तो आप सहज ही अंदाजा लगा सकते हैं कि आम जनता के प्रति उनका रवैया कैसा होता है,जिले के पत्थलगाँव नगर पंचायत में कोई एक मामला नहीं जिसपर चर्चा की जाए बल्कि अनेकों ऐसे मामले हैं जिनमे कार्यवाही के नाम पर महज खानापूर्ति उसके बाद मामला रफा दफा।

फिलहाल बात करें नगर पंचायत के राजस्व की तो नगरीय इलाकों में बेशकीमती करोड़ों की शासकीय जमीन रसूखदारों के कब्जे में हैं जिसमे अब तक न तो जांच हुई न तो कार्यवाही।ताजा मामला है पत्थलगांव के धर्मशाला एवं पुराने नगरपंचायत के सामने का जहाँ पहले गुमटी लगाये जाने की स्वीकृति परिषद् ने प्रस्तावित कर  दी उसके बाद वहां पक्के का अवैध निर्माण शुरू हो गया।इस पर नगर पंचायत चुप्पी साधे हुए है।ऐसे कई मामले हैं जिनमे नगर पंचायत को करोड़ों के राजस्व की हानि हो रही है जिसमे अधिकारीयों के साथ जनप्रतिनिधियों की मिलीभगत परिलक्षित होती है बावजूद इसके उनपर कोई कार्यवाही नहीं होती। 



दरअसल मामला तब अस्तित्व में आया जब हाफिज अब्दुल रशीद के द्वारा निकाय द्वारा निर्मित दूकान को तोड़कर पक्का निर्माण शुरू कर दिया गया जिसकी शिकायत बगल के दुकान क्रमांक 2 के पवन दास ने नगर पंचायत में की कि उक्त निर्माण के कारण उनके दूकान में बारिश का पानी जमा हो रहा है,उक्त मामले में नगर पंचायत के सीएमओ ने हाफिज अब्दुल रशीद को नोटिस जारी करते हुए जवाब माँगा जिसमे लिखा गया की उनके द्वारा कराया जा रहा निर्माण नगर पालिका अधिनियम 1961 के विपरीत है जिसमे काम रोके जाने व पुलिस कार्यवाही की बात का भी उल्लेख है।

मामले में निर्माण कार्य जारी है जिसकी सुचना नगर पंचायत द्वारा पुलिस प्रशासन को भी भेजी गई है इसके बावजूद रसूखदारों के हौसले इतने बुलंद हैं की बेधड़क शासकीय भूमि पर अवैध निर्माण धड़ल्ले से किया जा रहा है और नगर पंचायत समेत स्थानीय प्रशासन मूकदर्शक बना बैठा हुआ है। 

कुछ दिनों पहले ही नगरपंचायत के सीएमओ ,तहसीलदार,एसडीओपी ने मिल कर नगर के सड़क किनारे के सभी अतिक्रमण पर अपना डंडा चलाया था,शायद यह डंडा उन्हीं के लिए था जो रोज कमाकर अपनी रोजी रोटी चलाते थे जबकि रसूखदारों के अवैध कब्जे व् अवैध निर्माण पर प्रशासन खामोश है। नगरपंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्वशी सिंह देवी ने हो रहे उक्त अतिक्रमण को लेकर cmo को दो दिन के भीतर तोड़ने का निर्देश दिया था वही एक पार्षद ने भी कार्यवाही नहीं होने पर अनशन करने की धमकी दी थी पर कार्यवाही के नाम नगरपंचायत ने नोटिस देकर अपनी खानापूर्ती कर ली।

जिस भूमि की कीमत आज लाखों में है उस भूमि को प्रस्तावित कर किसी को यू ही दे देना एक बड़े भ्रस्टाचार की ओर संकेत करता है। अब सोचने वाली बात यह है कि पत्थलगांव की जनता ने जिन जनप्रतिनिधियों को नगरपंचायत के विकास के लिए बैठाया था वे अब केवल अपने निजी स्वार्थपूर्ति के अलावा कुछ नहीं कर रहे। 

नगरपंचायत के ऐसे करतूतों को लेकर जिला कलेक्टर के पास कई बार शिकायत किया गया जिसमे जिला कलेक्टर द्वारा भी इस मुद्दे पर कुछ नहीं किया गया।अब लोग अपनी शिकायत ले कर जाए तो जाए कहां ।

"नगरपंचायत सीएमओ जयमंगल सिंह परिहार ने बताया कि यदि अवैध निर्माण पर किसी प्रकार की प्रस्ताव पास की गई होगी तो मुझे नहीं मालूम क्यो की मैं कुछ दिन पहले ही नगरपंचायत का प्रभार लिया हूँ जहां तक मुझे जानकारी मिली है उसे 2019 तक का पट्टा दिया गया है वह भी पक्का निर्माण का पट्टा नहीं है,निर्माण कार्य को रोकने का नोटिस दे दिया गया है,जवाब नहीं आने पर अतिक्रमण कारियों पर नगरपंचायत के द्वारा थाने में एफआईआर दर्ज कराया जाएगा।" 

Comments

Popular Posts

"जशपुरिया मॉडल दिल्ली में हुई हिट",मॉडल "रेने" का वह गाँव जहाँ से शुरू हुई संघर्ष की कहानी,पत्रवार्ता की टीम पंहुची रेने के घर

BREAKING(पत्रवार्ता)शासकीय महिला कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर,छग में भी लागू होगा चाइल्ड केयर लीव,हाईकोर्ट ने दिया आदेश..

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।