... सर धड से अलग किया,आग में भूना,जी नहीं भरा तो गाड़ दिया 2 गज जमीन के नीच,,सरफिरे भाई के गुस्से की पूरी कहानी |

सर धड से अलग किया,आग में भूना,जी नहीं भरा तो गाड़ दिया 2 गज जमीन के नीच,,सरफिरे भाई के गुस्से की पूरी कहानी |


जशपुर/पत्थलगाँव(पत्रवार्ता.कॉम) जिसके बारे में सोचकर ही रुह काँप जाए,जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते,ऐसी ह्रदय विदारक घटना को अंजाम दिया है आरोपी हरिधर उर्फ गोलिया ने।इस आरोपी ने न केवल अपनी बहन की हत्या की बल्कि हत्या के बाद भी उसके मृत शरीर के अंगों से खेलता रहा।

मृतिका
"कुल्हाड़ी से वार कर आरोपी ने अपनी ही बहन की हत्या कर दी और सर धड से अलग कर दिया इतने से उसका जी नहीं भरा तो सर को आग में भून डाला,जब कटे सिर को जलाने में असफल हो गया तो घर के चौखट के पास दो गज जमीन के नीचे कटे सर को गाड़ दिया। "

चौखट से लगा गड्ढा जिसमें आरोपी ने सर को गाड़ दिया था  
28 वर्षीय सिरफिरे आरोपी को गुस्सा किस बात पर आया यह जानकर आप चौंक जायेंगे।मृतिका आरोपी की चचेरी बहन थी।मामला है पत्थलगाँव थाना इलाके के ग्राम पंचायत कछार के सेंद्रीबहार का जहाँ आज आरोपी ने हत्या के इस लोमहर्षक मामले को अंजाम दिया है।आगे पढ़ें आखिर क्यूँ की इसने जघन्य हत्या


पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चैतन नाग ग्राम पंचायत कछार के सेंद्रीबहार मोहल्ले का निवासी है। उसकी पुत्री दीपाली नाग 12 वर्ष गांव के ही शासकीय मिडिल स्कूल की छात्रा थी।सोमवार की सुबह करीब 9 बजे वह अपने घर में खाना बना रही थी।इसी दौरान उसका चचेरा भाई हरिधर उर्फ गोलिया पिता बुढ़िया वहां आ पहुंचा। उसने अपने हाथ में टांगी थाम रखी थी। 

घर में घुसने के बाद उसने बालिका से पानी मांगा। बालिका ने उसे थोड़ी देर इंतजार करने के लिए कहा। बालिका के इतना कहते ही वह आगबबूला हो उठा। वह अर्धविक्षिप्त बताया जाता है। उसने गाली-गलौच करते हुए हाथ में रखी टांगी से खाना बना रही बालिका दीपाली को मारने का प्रयास किया। उसकी मंशा भांपते हुए दीपाली घर से बाहर की ओर भाग निकली और खलिहान की ओर दौड़ने लगी।
उसे भागते देखकर आरोपी उसका पीछा करने लगा। घर से थोड़ी ही दूरी पर चैतन का खलिहान है। बताया जाता है कि दीपाली के पिता चैतन और अन्य परिजन घटना के समय खलिहान में थे। बालिका आरोपी से अपनी जान बचाने की गुहार लगाते हुए खलिहान के बिल्कुल पास पहुंच गई थी पर नियति को कुछ और ही मंजूर था। खलिहान का दरवाजा बंद था। बालिका दरवाजे के पास पहुंचने ही वाली थी कि आरोपी उसके पास आ पहुंचा और उसने टांगी से बालिका पर प्रहार कर दिया। मासूम बालिका भारीभरकम टांगी का प्रहार संभाल नहीं सकी और जमीन पर गिर पड़ी। आरोपी ने उसे धर दबोचा और उसके गले पर टांगी से कई प्रहार किए। इससे बालिका ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।


 इतने पर भी आरोपी का जी नहीं भरा और उसने टांगी से वार कर-कर के बालिका के सिर को धड़ से अलग कर दिया और उसे लेकर घर की ओर चल पड़ा। घर पहुंचने के बाद आरोपी ने बालिका के सिर को आग में जलाने की कोशिश की।
सिर के बाल जल जाने के बाद आरोपी ने घर के भीतर बरामदे में गड्ढा खोदकर सिर को उसमें दबा दिया। उधर बालिका का सिर लेकर घर जाते आरोपी को रास्ते में कई लोगों ने देखा था।लोगों ने मृतिका के पिता को इसकी सूचना देने के साथ ही पुलिस को भी इत्तिला की।

सूचना पर पत्थलगाँव थाना प्रभारी एन के त्रिपाठी,आशीष गौतम दल-बल के साथ तत्काल मौके पर आ पहुंचे। उन्होंने आरोपी को गांव से ही धर दबोचा।उन्होंने तहसीलदार मायानंद चंद्रा को मामले की जानकारी दी। तहसीलदार की उपस्थिति में पुलिस ने आरोपी के घर के बरामदे को खोदकर सिर को बरामद कर लिया। पुलिस द्वारा आरोपी को धारा 302 तथा 201 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध करते हुए गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी के पास से हत्या में प्रयुक्त टांगी भी बरामद की गई है। 

यूँ तो आरोपी अर्धविक्षिप्त बताया जाता है और हत्या की प्रमुख वजह यही मानी जा रही है। परंतु पुलिस की पड़ताल में आरोपी और मृतिका के पिता के बीच जमीन विवाद होने की बात भी सामने आई है। बताया जाता है कि आरोपी के पिता और मृतिका के पिता आपस में सगे भाई थे। आरोपी के पिता की मृत्यु हो चुकी है और इसके बाद से मृतिका के पिता चैतन ही उनकी भूमि में खेती किया करते थे। बताया जाता है कि आरोपी इसे लेकर मृतिका के पिता से चिढ़ा रहता था। यही नहीं आरोपी की उसके घर के पास की एक दीवार को बड़ा करने की बात पर ध्यान नहीं दिए जाने को लेकर भी नाराज बताया जाता है। पुलिस मामले से जुड़े सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर पड़ताल में जुटी है।
=========================

Post a comment

0 Comments