... बज उठी बिलासपुर की सियासी रणभेरी

बज उठी बिलासपुर की सियासी रणभेरी

युवा कांग्रेसी शैलेष पांडे व मंत्री अमर अग्रवाल आमने सामने।

बिलासपुर (पत्रवार्ता.कॉम) "क्यों" को लेकर बिलासपुर का सियासी घमासान चरम पर है।राजनीति के कुरुक्षेत्र में वाक युद्ध से दोनों ही सियासी योद्धा अपने लक्ष्य को भेदने की जोर आजमाईश कर रहे हैं।

एक ओर जहां सत्तारूढ़ पार्टी पर विपक्ष लगातार "क्यों" का बाण भेद रहा है। वहीं जवाबी तरकश से सत्ताधारी दल के कद्दावर नेता मंत्री अमर अग्रवाल भी अपना तीर चला रहे हैं।आखिर "क्यों" का जवाब देने के लिए मंत्री जी को रणभूमि में कूदना ही पड़ा।

इस बार मंत्री जी कांग्रेस के पहले प्रहार से बंगले से निकलकर शहर की गलियों तक पहुंच गए हैं और "क्यों"का जवाब देने की कोशिश कर रहे हैं।अमर ने क्यों के सवाल पर काँग्रेस को ही कटघरे में खड़ा करते हुए हुए कहा है कि ये सवाल तथाकथित कांग्रेसी जनता से कर रहे हैं और जनता जानती है कि इस तरह के सवाल करने वालों की छवि कैसी है। लिहाज़ा वो क्या जनता भी उनके सवाल का जवाब देना ऊचित नहीं समझते हैं।

इधर मंत्री के जवाबी बाण के बाद काँग्रेस भी पीछे नही है। काँग्रेस के युवा नेता शैलेष पांडेय ने रणभूमि में मोर्चा सम्हाल लिया है।उन्होने इसका जवाब देते हुए कहा है कि "क्यो" के सवाल पर मंन्त्री जी को बताना चाहिए कि आखिर चौथी बार जनता उन्हें ' क्यों "चुने। उस "क्यो" को मिटाना नहीं चाहिए। अगर वो इस सवाल से बच रहे हैं और जनता को गुमराह कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि वो डर रहे है घबरा रहे हैं। और इसी बौखलाहट में उनका मानसिक संतुलन भी बिगड़ गया है। बहरहाल "क्यों" को लेकर सियासी महाभारत जारी है। अब देखना होगा कि इस रण में जीत किसकी होती हैं।

Post a comment

0 Comments