... समस्या : "चक्का जाम विफल करने के बाद भी NH 43 जाम",न "पुलिस पंहुची न प्रशासन",लगी वाहनों की लम्बी कतारें,पत्थलगाँव से जशपुर की सड़क बदहाल .....

Recents in Beach


समस्या : "चक्का जाम विफल करने के बाद भी NH 43 जाम",न "पुलिस पंहुची न प्रशासन",लगी वाहनों की लम्बी कतारें,पत्थलगाँव से जशपुर की सड़क बदहाल .....




पत्थलगाँव,टीम पत्रवार्ता,10 सितम्बर 2019

पत्थलगाँव में नगर मंच द्वारा एनएच को सुधारे जाने की  मांग को लेकर चक्का जाम की पहल  के बाद मंगलवार को स्थानीय नागरिकों ने चक्का जाम शुरु ही किया था कि पुलिस,प्रशासन व् एनएच के अधिकारी मौके पर आ गए और जल्द सड़क निर्माण का लिखित आश्वाशन देकर चक्का जाम होने से पहले ही समाप्त कर दिया।वहीँ दूसरी ओर इसी एनएच में बीती रात 12 बजे से लगे जाम को खुलवाने शासन प्रशासन का कोई नुमईन्दा नहीं पंहुचा।देखिये पूरा मामला 

गौरतलब है कि लगभग 2 साल पहले एनएच का काम शुरु हुआ था जो अब तक पूरा नहीं हुआ है और सड़कें तालाब बन चुकी हैं।बीजेपी शासन काल में स्वीकृत एनएच का कार्य अब लंबित पड़ा हुआ है जबकि कांग्रेस अपनी ही प्रदेश सरकार के खिलाफ चक्का जाम धरना प्रदर्शन को हर हाल में रोकने की जद्दोजहद में नजर आ रही है वहीँ केंद्र का काम होने के कारण बीजेपी भी विपक्ष की भूमिका से कोसों दूर है


जब पत्थलगाँव में लोगों के द्वारा चक्का जाम की शुरुआत की गई इसके पहले ही तो चक्का जाम विफल करने ताना बाना बुना जा चूका था।वहीँ मौके पर पुलिस प्रशासन व एनएच के आला अधिकारी इस प्रयास में नजर आए कि चक्का जाम शुरु ही न हो

हुआ अघोषित चक्का जाम 
इस दौरान पत्थलगाँव कांसाबेल के बीच खराब एनएच 43 के कारण बेलडेगी में अघोषित चक्का जाम हो गया  और यहाँ रात 12 बजे से ही वाहनों की लम्बी कतारें लग गई।यहाँ के ग्रामीण इस जाम से खासे परेशान हैं न तो यहाँ जाम खुलवाने के लिए पुलिस पंहुची न प्रशासन ....पुरे दिन के जद्दोजहद के बाद स्थानीय जेसीबी की मदद से शाम को फंसी गाड़ियों को ग्रामीणों ने निकाला इसके बावजूद तालाब बन चुके सड़क में यातायात शुरु नहीं किया जा सका।

देखें वीडियो


आपको बता दें कि पत्थलगाँव से कांसाबेल के बीच 12 घंटों से अधिक जाम की स्थिति बनी रही जहाँ बड़ी गाड़ियों के फंसने के कारण यातायात भी बाधित हुआ जो अब तक बदस्तूर जारी है।अब तक न तो सड़क ठीक करने की कवायद शुरु हुई है न ही यातायात शुरु किया जा सका है

उल्लेखनीय है कि एनएच के गैरजिम्मेदार अधिकारी वकर्मचारियों की मनमानी  के कारण  आम लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है वहीँ ठेकेदार पर अब तक कोई कार्रवाई न करना कहीं न कहीं विभागीय संलिप्तता को प्रदर्शित करता है।बताया जा रहा है कि एनएच के अधिकारियों व कर्मचारियों के द्वारा कमीशन के  बड़े खेल के कारण अब तक विभागीय कार्रवाई लंबित है

फिलहाल देखना दिलचस्प होगा कि भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे एनएच प्रशासन द्वारा सड़क की स्थिति सुधारने के लिए क्या पहल की जाती है...?

Post a Comment

0 Comments