Recents in Beach


खबर का असर :- एक्शन में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, कहा- "स्वास्थ्य विभाग प्रबंधन की बड़ी लापरवाही,आगे ऐसा न हो इसका ध्यान रखा जाएगा





जशपुर(पत्रवार्ता) जिले के सन्ना इलाके में टांगी के हमले से गंभीर रुप से घायल पहाड़ी कोरवा को एम्बुलेंस न मिलने के कारण 10 किलोमीटर पैदल कंधों पर ढोकर लाया गया।इस खबर को पत्रवार्ता ने प्रमुखता से उठाया जिसपर छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव का बयान सामने आया है।

"स्वास्थ्य मंत्री ने इसे स्वास्थ्य विभाग प्रबंधन की 
बड़ी लापरवाही मानते हुए कड़ी कार्रवाई की 
बात कही है।उन्होंने अपने दिए गए बयान में 
यह भी आश्वस्त किया है कि भविष्य में ऐसी 
लापरवाही न हो इसके लिए समुचित 
व्यवस्था बनाई जा रही है।
108 व 102 वाहनों के लिए 
नए टेंडर की कार्यवाही शुरू हो गई है।"


क्या था मामला

शासन की तमाम योजनाओं के बावजूद जशपुर जिले के पहाड़ी कोरवा स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित हैं।दुर्दशा इतनी भयावह है कि पहाड़ी कोरवा मरीज को अस्पताल आने के लिए एम्बुलेंस तक मय्यसर नहीं।मामला है सन्ना के ब्लादरपाठ का जहां पहाड़ी कोरवा जनजाति के रुईला(50) पिता मंगरु व जितवा (35) पिता सोरठा पर गांव के बंधु कोरवा ने किसी बात को लेकर टांगी से हमला कर दिया।इस हमले में चाचा रुईला व भतीजा जितवा घायल हो गए।

टांगी के प्रहार से रुईला गंभीर रूप से घायल हो गया जिसके ईलाज के लिए एम्बुलेंस 108 व किसी अन्य वाहन की मदद नहीं मिली।जिसके बाद गांव के बसंत व सुनील पारंपरिक झलंगी भार की मदद से कंधे पर ढोकर लगभग 10 किलोमीटर का पैदल सफर तय कर सन्ना थाना पंहुचे।जहां से उसे सन्ना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ईलाज के लिये भर्ती कराया गया।जहां से उसे बगीचा रेफर कर दिया गया।यहां भी उसके समुचित इलाज की व्यवस्था नहीं थी जिसके कारण उसे अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया।

पहाड़ी कोरवा की पूरी कहानी
जानने के लिए
क्लिक करें 🔻

राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों को नहीं मिली मदद



Post a Comment

0 Comments