... BREAKING:सीटिंग मंत्री,विधायकों के टिकट कटने,नए चेहरों को मौका देने और इसके बीच उठ रहे बगावत को लेकर प्रदेश भाजपाध्यक्ष की दो टूक..

BREAKING:सीटिंग मंत्री,विधायकों के टिकट कटने,नए चेहरों को मौका देने और इसके बीच उठ रहे बगावत को लेकर प्रदेश भाजपाध्यक्ष की दो टूक..



बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम)भाजपा प्रत्याशियों की पहली सूची में सीटिंग मंत्री,विधायकों के टिकट कटने,नए चेहरों को मौका देने और इसके बीच उठ रहे बगावत के सुर के बीच प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने साफ किया है कि पार्टी जीतकर आये ये पहली प्राथमिकता है। पार्टी के मापदंड के आधार पर संसदीय बोर्ड ने केंद्रीय स्तर पर सब कुछ विचार कर ये निर्णय लिया है जो सभी को स्वीकार्य होना चाहिए।


कौशिक ने उम्मीद के मुताबिक कम लोगों के टिकट कटने के सवाल पर कहा कि, पूरे नाम नहीं बदले जा सकते और टिकट कटना कोई मापदंड नहीं है। पार्टी जीत कर आये ये पहली प्राथमिकता है। इसी आधार पर पार्टी ने इन नामों को तय किया है। कुछ नए, कुछ पुराने जो पिछले बार चुनाव लड़े हार गए वो भी शामिल किये गए है। कुछ वर्तमान चेहरों को रोका गया है। इस प्रकार सभी का समावेश करते हुए लगभग 14 महिलाओं, 25 युवा, 55 किसान, 3 डॉक्टर व एक पूर्व आईएएस अधिकारी को टिकट दिया गया है।

मंत्री सहित सीटिंग विधायकों के टिकट कटने पर कहा कि, विशेष तौर पर इसके कोई एक कारण किसी के नहीं है। पार्टी के जो मापदंड थे,उसके आधार पर ये तय किया गया है। इनपर अब बहुत ज्यादा कोई विचार नही है। संसदीय बोर्ड ने पार्टी के केंद्रीय स्तर पर सब कुछ विचार कर ये निर्णय लिया है जो सभी को स्वीकार्य है।

प्रत्याशीयों के दूसरी सूची को लेकर कहा, बाकी बचे सीटों के समकक्ष कई स्थिति परिस्थितियां हैं, जिसपर राष्ट्रीय अध्यक्ष विचार करना चाह रहे हैं, जिसके कारण होल्ड किया गया है। जल्द ही इसकी भी घोषणा हो जाएगी। काँग्रेस के घोषणा का कोई इंतज़ार नही है, भाजपा ने पहली सूची जारी कर दी है जल्द दूसरी भी जारी हो जाएगी।

प्रदेश में अन्य दलों के गठबंधन पर कहा - पिछले चुनावों में केवल दो पार्टियाँ मैदान में थी। लेकिन काँग्रेस से अलग होकर जोगी काँग्रेस व उनका बसपा से गठबंधन होने से मुकाबला त्रिकोणीय रहेगा, लेकिन बीजेपी को इससे कोई नुकसान नही होगा, बीजेपी फिर जीतकर आएगी।

जोगी के चुनाव न लड़ने पर कहा- वो पहले भी कई ऐलान कर चुके हैं, ऐसी कई बातें वो कर चूके हैं। लेकिन ये उनका व्यक्तिगत व विवेक पर निर्भर करता है कि वो कब लड़ेंगे के  नही लड़ेंगे। वैसे उनके फैसले अब यूपी से मायावती कर रही हैं।

बिल्हा से टिकट तय होने को लेकर कहा- दायित्व मिला है तो पार्टी की हर अपेक्षा को पूरा करने का काम किया जाएगा। वैसे भी बिल्हा में हर बार बदलाव होता आया है और इस बार भाजपा के जीत की पारी है।

Post a comment

0 Comments