Recents in Beach


व्यापार विहार में ड्रेनेज का हाल बेहाल,व्यापारी परेशान,स्मार्ट सिटी का दावा खोखला..


बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम)व्यापार विहार के व्यापारी इन दिनों नगर निगम द्वारा बनाए गए ड्रेनेज सिस्टम से परेशान हैं। निगम के इंजीनियरों ने ऐसा दिमाग लगाया है, ड्रेनेज सिस्टम व्यापारियों के लिए किसी काम का नहीं। 80% दुकानों में इसका उपयोग नहीं हो पा रहा है। 18 साल बीत गए, सफाई नहीं हुई और कचरा पटता चला गया। अब सफाई करने के लिए निगम को फिर से खुदाई करनी पड़ेगी और लाखों का फटका भी लगेगा। दरअसल ड्रेनेज सिस्टम की इंजीनियरिंग ऐसी है, उसे निकालकर साफ भी नहीं किया जा सकता है। अब यदि सफाई के लिए उसे उखाड़ने की जरूरत पड़ती है, तो बिलासपुर नगर निगम द्वारा लाखों फिर खर्च कर दिए जाएंगे।

व्यापारियों ने बताया कि यहां के 80% व्यापारियों के लिए ड्रेनेज सिस्टम ना के बराबर है। उल्टा इससे परेशानी बढ़ी है। नियमित सफाई के अभाव और निगम की उदासीनता ने ड्रेनेज सिस्टम का सत्यानाश कर दिया है। 20% व्यापारियों के यहां ड्रेनेज ठीक-ठाक काम करता है लेकिन बाकी के व्यापारी कहते हैं कि उन्हें दूसरे व्यापारी व सार्वजनिक सुलभ शौचालय में लघु शंका के लिए जाना पड़ता है। निगम बड़े-बड़े दावे करती है लेकिन ज्यादातर दावे खोखले साबित हो जाते हैं। इधर स्मार्ट सिटी बनाने को लेकर बड़े-बड़े दावे किए जा रहे हैं। लाखों की लागत से हाईटेक स्मार्ट सिटी का दफ्तर विकास भवन के तीसरे माले में बनाया गया है। लेकिन इन मूलभूत समस्याओं से ना निपट पाना निगम की नाकामयाबी ही है। व्यापारियों ने इसका जिम्मेदार निगम के नाकाबिल इंजीनियरों को ठहराया है।

गौरतलब है कि व्यापारियों से शासन-प्रशासन को सबसे ज्यादा राजस्व मिलता है, बावजूद, ऐसी स्थिति दुर्भाग्यजनक है। जबकि शहर में व्यापार विहार एक बड़ा स्थान है जो पूरे छत्तीसगढ़ में महत्वपूर्ण व्यापारिक हब है। 

Post a Comment

0 Comments