... समस्या:-शराब के नशे में मस्त रहते हैं छात्रावास अधीक्षक,एक माह से बच्चे बना रहे खाना,अधीक्षक के खिलाफ लामबंद हुए छात्र

समस्या:-शराब के नशे में मस्त रहते हैं छात्रावास अधीक्षक,एक माह से बच्चे बना रहे खाना,अधीक्षक के खिलाफ लामबंद हुए छात्र


जशपुर(पत्रवार्ता.कॉम) जिले में स्कूलों के खस्ताहाल हालात की खबर तो आप देख ही चुके हैं।अब आपको बताते हैं बगीचा के बालक छात्रावास की बदहाली जहाँ बच्चे खुद ही अपना पालन पोषण करने को मजबूर हैं यहाँ तक कि छात्रावास के अन्य कामों के अलावा खाना भी बच्चे खुद ही बनाने को मजबूर हैं



मामला तब सामने आया जब दर्जनों छात्र बगीचा मुख्य मार्ग में अस्पताल के पास भटकते हुए मिले ,पूछने पर पता चला कि सभी छात्र बालक छात्रावास बगीचा के हैं और छात्रावास की अव्यवस्था को लेकर एसडीएम से मिलने के लिए जा रहे हैं हांलाकि उनकी मुलाकात एसडीएम से नहीं हो पाई ..इसी छात्रावास की दो  छोटे बच्चों की तबियत खराब थी जिन्हें कक्षा 12 वें के छात्र अस्पताल में चिकित्सा के लिए भी लेकर आये थे।






दरअसल बगीचा बीईओ कार्यालय के पीछे स्थित बालक  छात्रावास में अव्यवस्था का आलम है जहाँ लम्बे समय से छात्रावास अधीक्षक गुलशन केरकेट्टा की लापरवाही से छात्र त्रस्त हैं।पिछले एक माह से रसोईया के हड़ताल के कारण बच्चे ही खाना बना रहे हैं।छात्रावास का बोर खराब हो गया है जिससे बच्चे नदी में नहाने जा रहे हैंबारिश के दिनों में नदी में पानी भरा होता है ऐसे में वहां नहाना भी खतरे से खाली नहीं छात्रों ने बताया की छात्रावास अधीक्षक हमेशा नशे में मस्त रहते हैं  बच्चों की कोई  चिंता नहीं रहती।सारा काम बच्चों को करना पड़ता है वहीँ रसोईया भी अपनी मनमानी करते हैं 

छात्रों ने बताया कि वे 12 वीं के छात्र हैं और इस वर्ष बोर्ड एक्जाम होने के कारण उन्हें काफी तैयारी करनी है पर छात्रावास की व्यवस्था सम्हालने में ही उनका समय ख़त्म हो जाता है लिहाजा उन्हें इस समस्या से निजात दिलाने के लिए छात्रावास अधीक्षक को हटाकर किसी योग्य अधीक्षक की तैनाती कराई जाए।

"मामले की जानकारी की मिली है,ऐसे लापरवाह छात्रावास अधीक्षक पर कार्यवाही होगी उसे हटाकर दुसरे अधीक्षक की व्यवस्था की जा रही है"
एसके वाहने,सहायक आयुक्त,आदिवासी विकास विभाग,जशपुर
===================
संसाधनों के अभाव में जूझने वाले अपने मेहनत के दम पर कर आये दिल्ली की हवाई यात्रा।



Post a comment

0 Comments