Recents in Beach


EXCLUSIVE VIDEO ::पूर्व मंत्री गणेश राम भगत ने ठोंकी ताल,घर वापसी के प्रबल संकेत,कहा फिर से बनायेंगे सरकार


  • योगेश थवाईत

रायपुर/जशपुर (पत्रवार्ता.कॉम) "संघ"के मजबूत "इरादों" और अपने "कर्तव्यों के बलबूते" मजबूत "जनसमर्थन" के साथ पूर्व मंत्री गणेश राम भगत की घर वापसी के संकेत मिलने शुरु हो गए हैं।पार्टी में वापसी के कयासों का दौर तो काफी दिनों से चल रहा था पर संघ प्रमुख के दौरे एक बाद यह मुद्दा और भी गहरा हो  गयावहीं संघ प्रमुख के दौरे के बाद अंदरखाने से यही खबर है कि ऐसे कद्दावर,हिंदुत्ववादी और वनवासी समुदाय के संरक्षक माने जाने वाले जननेता गणेश राम भगत की अनदेखी भी नहीं की जा सकती लिहाजा उन्हें पुनः पार्टी में लिया जाना ठीक होगा।


अपने तेज तर्रार "अंदाज" फैसला "ऑन द स्पॉट" के लिए मशहूर श्री भगत की वापसी के कयासों पर अब विराम लगने वाला है क्यूंकि जल्द ही सीएम इस मामले में बड़ा फैसला लेने वाले हैं।सूत्रों की मानें तो संघ की ओर से घर वापसी के स्पष्ट निर्देश प्रदेश सरकार को दिए गए हैं।
"पूर्व मंत्री इस मामले 
पर शांत हैं उनका बस 
यही कहना है लोग आंकलन 
करते रहें हम अपने कर्तव्य 
का निर्वहन करते रहेंगे।"

गौरतलब है की पिछले विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के रुप में बगावती तेवर के साथ गणेश राम भगत ने सियासी ताल ठोंकी थी जिसके बाद उन्हें पार्टी ने निष्कासित कर दिया गया था।बावजूद इसके पूर्व मंत्री अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते रहे और आदिवासियों की हितों की रक्षा के लिए जनजातीय सुरक्षा मंच समेत वनवासी कल्याण आश्रम के सात कंधे से कन्धा मिलकर चलते रहे।

इतना तो तय है की पत्थरगढ़ी की आग ने यहाँ के सियासी समीकरण में आमूल चूल परिवर्तन ला दिया है जिसका सीधा फायदा यहाँ सत्ता दल समेत आदिवासी नेताओं को मिलता नजर आ रहा है।पत्थरगढ़ी के मामले में पूर्व मंत्री ने पहले ही कहा था इस आग को फैलने नहीं देंगे "जशपुर को बस्तर बनने नहीं देंगे "

"मामले में गणेश राम भगत कहते हैं 
जब तक यह शरीर है वनवासी आदिवासियों
की हितों की रक्षा के लिए अपने कर्तव्य पर 
अडिग बना रहूँगा,जशपुर की शांत फिजा को 
कभी अशांत होने नहीं देंगे "

पूर्व मंत्री के पुनः पार्टी में आने से जशपुर की सियासत में काफी उबाल आने की सम्भावना जताई जा रही है।एक ओर जहाँ राजपरिवार में सियासी नेतृत्व को लेकर घमासान मचा हुआ है वहीँ यह भी खबर है की वहीँ एक पक्ष से पूर्व मंत्री को जबरदस्त समर्थन भी मिल रहा है।यदि ऐसा हुआ तो एक बार फिर से "रियासत की सियासत "चर्चे में होगी

जशपुर में आदिवासियों की आवाज को 
बुलंद करते हुए रणजीता स्टेडियम में 
"गणेश राम भगत" ने छत्तीसगढ़ के 
मुख्यमंत्री से सीधा संवाद किया और कहा 
मुख्यमंत्री जी सुनिए,आप हमारे सरकार हो
 आपको छोड़ेंगे नहीं,आपको फिर से 
सरकार में बनायेंगे,देखें विडीयो 👇


 फिलहाल इस खबर ने कईयों के चेहरे पर मुस्कान ला दी है वहीँ कई इस चिंता में हैं कि "टिकट मिल गया तो क्या होगा"....? बने रहे पत्रवार्ता.कॉम के साथ  
=================================
इनसे जुडी खबर 👇




  

Post a Comment

0 Comments