... बिलासपुर सीवरेज के दर्द का ईलाज " गठ्ठवन तेल "

बिलासपुर सीवरेज के दर्द का ईलाज " गठ्ठवन तेल "

क्या है मामला अमर भैया जिन्दाबाद बनाम गठ्ठवन तेल.?

बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) बिलासपुर में वाकवीरों की सियासत अब परवान चढ़ती जा रही है।आम लोगों के दर्द को सत्ताधारी हों या विपक्ष भला कौन समझ पाया है।फिलहाल इस चुनावी साल में दर्द पर सियासत जरूर होने लगी है । 

शहर में इन दिनों बयानवीर नेता अलग तरह की राजनीति करते नजर आ रहे हैं ।ये नेता बोलकर नहीं बल्कि लिखकर या फिर संकेतों के सहारे अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं ।बिलासपुर में पोस्टर वार की ताजा तस्वीर जो इन दिनों सुर्खियों में है वो है "फूल के बदले दर्दनाशक तेल की" ।

"एकतरफ जहां बीजेपी विधायक अमर अग्रवाल के समर्थन में अमर भैया जिन्दावाद लिखा हुआ है तो दूसरी ओर दर्द नाशक गठ्ठवन तेल का विज्ञापन भी किया गया है । हालांकि कोई भी कांग्रेसी फिलहाल यह नहीं स्वीकार रहे हैं कि यह उनकी ही करतूत है लेकिन वो चुटकी लेने से बाज भी नहीं आ रहे।कांग्रेसियों का कहना है कि सीवरेज योजना के तहत पिछले 10 सालों से बीजेपी विधायक ने जो लोगों को दर्द दिया है,यह तेल उसी दर्द को कम करने के लिए है ।"

माना जा रहा है कि दर्दनाशक तेल का विज्ञापन डालना कांग्रेस का जवाब देने का अपना इनडाइरेक्ट अप्रोच है । फिलहाल इस विज्ञापन से पूरे शहरभर में सियासत गरमा गई है ।आपको जानकारी दें कि बिलासपुर शहर में इससे पहले अमर अग्रवाल के पोस्टर के सामने "क्यों" लिखने का मामला अभी गरमाया ही हुआ था और अब अमर भैया जिन्दावाद बनाम गठ्ठवन तेल का मामला सुर्खियां बटोर रहा है ।

बहरहाल लोगों का दर्द कम हो न हो सियासतदारों की धडकनें जरुर तेज होती जा रही हैं।
=======================================
अन्य ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें
बज उठी बिलासपुर की सियासी रणभेरी

मंत्री अमर अग्रवाल " क्यों "

नेता ,मंत्री,महापौर पढ़े-लिखे नहीं -शैलेष
=======================================

Post a comment

0 Comments