... CRIME पत्रवार्ता : "जशपुरिया "ATM" ऑपरेटरों का बड़ा कारनामा,शातिराना तरीके से अय्याशी में उड़ा दिए SBI के पूरे 17 लाख,ऐसे हुआ मामले का खुलासा,जानें आरोपियों के शातिराना अंदाज की पूरी कहानी सिर्फ पत्रवार्ता पर .......

CRIME पत्रवार्ता : "जशपुरिया "ATM" ऑपरेटरों का बड़ा कारनामा,शातिराना तरीके से अय्याशी में उड़ा दिए SBI के पूरे 17 लाख,ऐसे हुआ मामले का खुलासा,जानें आरोपियों के शातिराना अंदाज की पूरी कहानी सिर्फ पत्रवार्ता पर .......

जशपुर/रायगढ़,टीम पत्रवार्ता,13 मई 2021

ATM से ठगी करने वाले तो आपने कई मामले देखे होंगे।इस बार एटीएम कर्मचारियों का ही बड़ा गड़बड़झाला सामने आया है।बड़े ही शातिराना तरीके से इन एटीएम कर्मचारियों ने एटीएम में डालने के लिए मिले लाखों रुपयों को अय्याशी में खर्च कर दिया।पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। .

दरअसल पिछले एक साल से दोनों कर्मचारी एटीएम से लगातार रूपए निकाल रहे थे।पत्रवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार इसका खुलासा तब हुआ जब कम्पनी ने आडिट किया।धरमजयगढ़ व बागबहार के दोनों एटीएम मिलाकर 17 लाख 71 हजार की राशि का अंतर पाया गया।

पुलिस सूत्रों से पत्रवार्ता को मिली जानकारी के अनुसार एटीएम कस्टिडियन के रूप में कार्यरत दोनों आरोपी राम विलास चौहान पिता शंकरराम चौहान उम्र 27 साल निवासी धवीटोली सिंगिबहार थाना तपकरा व रोशन तिग्गा पिता फबियानुस तिग्गा उम्र 26 साल निवासी सारसबहार चटकपुर डंण्डाडीह थाना दुलदुला जिला जशपुर के रहने वाले हैं।राईटर विजनेश सर्विसेज प्रालि के अधीन भारतीय स्टैट बैंक से प्रदान किये गये इंडेट के अनुसार रायगढ़ व जशपुर जिले के कई एटीएम में नगदी निकालने तथा एटीएम में लोड करने का काम ये करते थे। 

राईटर विजनेश सर्विसेज प्रालि के सहायक प्रबंधक विपिन कुमार सिंह ने इन दोनों कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।आवेदन पत्र पर दोनों आरोपियों के विरुद्ध धरमजयगढ़ पुलिस ने धारा 409,34 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर मामले की जाँच में जुटी हुई है।

प्रार्थी ने बताया कि दोनों कर्मचारियों को एटीएम कस्टोडियन के रूप में नियुक्त किया गया था दोनों को भारतीय स्टैट बैंक शाखा धरमजयगढ से प्रदान किये गये इंडेट के अनुसार नगदी निकालने तथा एटीएम में लोड करने कि जिम्मेदारी सौपी गई थी जो दिनांक 4 मई को आडिट करने एवं जांच पश्चात नगदी रकम सत्रह लाख इक्हत्तर हजार रूपये का कमी पाया गया।दोनों ने 27 अप्रैल को अंतिम बार एटीएम का विजिट किया था।

पुलिस की विवेचना में हुआ खुलासा 

अपराध विवेचना दरम्यान धरमजयगढ़ पुलिस द्वारा दोनों आरोपियों को हिरासत में लिया गया । आरोपी रामविलास चौहान बताया कि 2015 से दोनों एटीएम ऑपरेटर का काम कर रहे हैं । दोनों चार एटीएम -धरमजयगढ़ एसबीआई एटीएम, धरमजयगढ़ एक्सिस बैंक एटीएम, पत्थलगांव एचडीएफसी एटीएम और बागबाहर एसबीआई एटीएम में पैसा डालने के लिए राइटर बिजनेस प्राइवेट लिमिटेड रायपुर से अधिकृत हैं। 

रायगढ़ कार्यालय से जितने भी एटीएम में पैसा डालने का काम करते हैं उनका एक WBS रायगढ़ में ग्रुप बना है । किस एटीएम में पैसा डालना है मेल के जरिये जानकारी मिलती थी । मेल से प्राप्त वाउचर के जरिए धर्मजयगढ़ के एसबीआई बैंक से रूपये निकालते और ATM में डाला करते थे ।

चारों एटीएम का चाभी इनके पास रहता था एटीएम खोलने के लिए इनके ऐप में रिक्वेस्ट भेज कर पासवर्ड प्राप्त करते थे और मशीन खोलकर पहले एटीएम से स्लिप निकाल कर बैलेंस चेक कर कम्पनी से मिले एडमिन कार्ड से बैलेंस चेक और लॉगिन करते थे ।

पिछले 7 महीने से धर्मजयगढ़ और बागबाहर एसबीआई एटीएम से लॉगिन करके पैसा निकालते थे । दोनों लगभग 17 लाख 71 हजार रुपए निकाल चुके हैं आरोपी रामविलास चौहान ने एटीएम से निकाले पैसे शराब व जुए में हार जाना बताया वहीँ तथा इसका साथी रोशन तिग्गा बंटवारे में मिले रकम में से मोटरसाइकिल खरीदना तथा परिवारजनों का इलाज कराना और घूमने खाने पीने में खर्च करना बताया हैदोनों आरोपियों को धरमजयगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है


Post a Comment

0 Comments