... समस्या : NH43 की बदहाली को लेकर युवाओं ने सड़क में लगाया दरबार,सांसद,विधायक,मंत्री,संसदीय सचिव,नेता किसी का असर नहीं,NH विभाग की मलाई का होगा हिसाब,युवाओं ने कमर..कसकर बनाई रणनीति..?

समस्या : NH43 की बदहाली को लेकर युवाओं ने सड़क में लगाया दरबार,सांसद,विधायक,मंत्री,संसदीय सचिव,नेता किसी का असर नहीं,NH विभाग की मलाई का होगा हिसाब,युवाओं ने कमर..कसकर बनाई रणनीति..?

 


पत्थलगांव, टीम पत्रवार्ता,13 सितंबर

यूँ तो छत्तीसगढ़ सरकार के नुमाइंदे जशपुर को अलग पहचान दिलाने की बनावटी कसर कभी नहीँ छोड़ते।दरअसल यहां की जमीनी हकीकत देखने के लिए आपको अम्बिकापुर या पत्थलगांव के रास्ते जशपुर आना होगा तब आप यहां की दुर्दशा देख सकते हैं।कहते हैं विकास की धूरी सड़क होती है जो यहां गायब है।जी हां बीजेपी शासनकाल में स्वीकृत निर्माणाधीन एनएच 43 का कार्य अब तक लंबित है।जो न केवल लोगों की परेशानी का सबब बना हुआ है बल्कि विकास के नाम पर बदनुमा दाग बनता नजर आ रहा है।

बात करें पत्थलगांव से जशपुर या पत्थलगांव से अम्बिकापुर दोनों की मार्ग इतने खस्ताहाल हैं कि लक्ज़री गाड़ी में घूमने वाले नेता मंत्रियों को भी इसका एहसास नहीं होता।जिले के प्रभारी मंत्री बीजेपी शासन काल में लामबंद होकर सीतापुर बतौली के बीच धरने पर बैठ गए थे।अब वे कांग्रेस सरकार में मंत्री हैं लिहाजा अपने सरकार के विरोध में कैसे बैठें...? भले ही जनता बिना सड़क के यात्रा करती रहे।

सरगुजा के नरेश कहे जाने वाले बाबा भी अब मंत्री हैं जिन्हें अम्बिकापुर के बाद प्रभारी मंत्री के इलाके से कोई लेना देना नहीं।कभी सड़क मार्ग से पत्थलगांव जशपुर आएं तो कुछ परेशानी का एहसास हो सकता है।यहां के लोग बिना सड़क के कैसे गुजर बसर कर रहे हैं।

हांलाकि पत्थलगांव के युवाओं ने एक बार फिर से कमर कसी है।स्थानीय रेस्ट हाउस के सड़क पर युवाओं ने दरबार लगाई और जमकर अपनी भड़ास निकाली।शहर मंच के तत्वावधान में युवाओं ने अब एनएच विभाग के मलाईदार पद पर बैठे अधिकारी कर्मचारियों से हिसाब लेने का मन बना लिया है।

प्रेस क्लब के अध्यक्ष व युवा सदस्य नीरज गुप्ता ने बताया कि जिले में तीन विधायक,एक सांसद समेत संसदीय सचिव का पद भी सुशोभित है।इसके बावजूद किसी की दाल एनएच विभाग में नहीं गल रही।उन्होंने बताया कि संसदीय सचिव खुद इंजीनियर हैं और घटिया निर्माण की खिलाफत करते भी नजर आते हैं।इसके बावजूद कार्य मे लेटलतीफी और घटिया निर्माण का कोई हिसाब नहीं।आए दिन मलाई का हिस्सा पंहुचने की बातें बाजार में वायरल होती रहती है जिसके कारण अब तक एनएच के ठेकेदारों को प्रश्रय मिलता आया है।अब तक एनएच के किसी ठेकेदार पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

पत्थलगांव के युवाओं का कहना था कि अरसा बीत जाने के बाद भी एनएच का निर्माण नहीं हो पाया है।जिसके कारण नगर के अंदर व बाहर हालात बद से बदतर हो चुके हैं।जिसके लिए यहां के नेतृत्व कर्ता सीधे जिम्मेदार हैं।एनएच 43 में लगातार जाम और कहीं जाने के लिए घंटों जान हथेली पर रखकर सफर करना लोगों की मजबूरी हो गई है।

यह समस्या वर्षों से बनी हुई जिस ओर देखने वाला कोई नहीं है।वहीं एनएच विभाग भी सोया हुआ है।उक्त बैठक में निर्णायक रणनीति बनाकर आगे की कार्यवाही किये जाने पर सहमति बनी।बैठक में प्रेस कल्ब अध्यक्ष नीरज गुप्ता,संजय तिवारी,मीनू मेहरा,रुपेश जिंदल,राजा सिंह, राजु गुप्ता,सुनील शर्मा,भुपेन्द्र द्विवेदी,कुंदन शर्मा,आलोक, सचिन रोहिला,पंकज लकड़ा समेत अन्य युवा उपस्थित रहे।

Post a comment

0 Comments