Recents in Beach


SP साहब ! यहां जमकर चल रहा "जुआ" और पुलिस बनी तमाशबीन,अब तक नहीं हुई कोई कार्रवाई,कहीं सेटिंग का चक्कर....तो.....?





जशपुर (पत्रवार्ता) जिले में इन दिनों सावन मेले की धूम है।मेले की आड़ में कई स्थानों पर जमकर अनैतिक कार्य भी हो रहे हैं।पत्थलगांव थाना ईलाके में खुलेआम खुडखुड़िया जुआ खिलाया जा रहा है।जिसमें चार गुने पैसे का लालच देकर ग्रामीणों से जमकर पैसे ऐंठे जा रहे हैं।आपको बता दें कि ग्रामीण चारगुने पैसे के लालच में खूब पैसे लुटा रहे हैं।

न दिनों पत्थलगांव थाना क्षेत्र के कई गांव में मेले का माहौल है। जहां आयोजित होने वाले पारम्परिक रथ व सावन का मेला धीरे-धीरे असामाजिक गतिविधियों का अड्डा बनता जा रहा है।जिसमें सबसे पहले झंडी मुंडी खुड़खुड़िया जुआ का नाम आने लगा है। 

चंद रुपयों की लालच में गांव के प्रमुख या मेला आयोजन समिति इस जुए के खेल को संरक्षण देकर पूरी रात संचालित कराती है। पूरी रात चलने वाले जुआ के बाद सुबह गांव के गरीब जनता केे सारे पैसे लूट चुके होते हैं।

इन दिनों सारसमार में जुआ

पत्थलगांव थाना इलाके में उक्त जुए पर कार्रवाई न होने कारण पुलिस पर भी सवालिया निशान लगना लाजिमी है।सारसमार मेले में खुले आम झण्डा-मुण्डा के नाम से यह जुआ शाम को लगभग 4 बजे से शुरू हो कर पूरी रात चलता है।इस खेल के लिए जिला के अलग-अलग गांव से ही नहीं पड़ोसी राज्य ओड़िसा से कुछ गिरोह बेखौफ होकर गांव पहुंचते है। यहां गांव वालों के गाढ़ी मेहनत की कमाई चंद मिनटों में वे लुट कर ले जाते है। 

सबसे बड़ी बात यह है कि इस खेल में केवल खेल खिलाने वाले ही जीतते हैं।वहीं इन्हें संरक्षण देने वाले गिरोह जुए की हर फड़ से लगभग 5 से 7 हज़ार रकम वसूलते है जिससे इनके पास भी मोटी रकम इकट्ठा हो जाती है और खेल को प्रभावित करने वाले हर शख्स के पास कटिंग कमीशन पहुँच जाती है।

मिली जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत सारसमार के मेले में लगभग 8 जुए का फड़ लगा था।कुछ लोग खुलेआम अवैध वसूली कर खेल को रात भर बदस्तूर जारी रखे । न ही इन्हें कानून का कोई ख़ौफ़ था न ही पुलिस का कोई डर।अगर समय रहते इस जुए में अंकुश नहीं लगाया गया तो अंचल के पारम्परिक मेले को यह जुए का खेल अपनी गिरफ्त में ले लेगा। और गाँव के ग़रीबों की कमी यूँ ही लुटती रहेगी। 

जिले के आला अधिकारियों तक बात पंहुचने के बाद ऐसे असामाजिक तत्वों के विरूद्ध कार्रवाई के साथ बड़े पैमाने पर जुए के खेल को खिलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई संभव है।

Post a Comment

0 Comments