... नवरात्र में डांडिया,गरबा जैसे पारंपरिक आयोजन समाज और संस्कृति को समृद्ध बनाते हैं- मुनमुन

Recents in Beach


नवरात्र में डांडिया,गरबा जैसे पारंपरिक आयोजन समाज और संस्कृति को समृद्ध बनाते हैं- मुनमुन


बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम)नवरात्र जैसे परंपरागत त्यौहार में डांडिया, गरबा के आयोजन समाज और संस्कृति को समृद्ध बनाते हैं। ये कहना है तारक मेहता उल्टा चश्मा की बबीता जी यानी मुनमुन दत्ता का। फाउंडेशन क्रिकेट एकेडमी और भाटिया फ्यूल द्वारा आयोजित रास डांडिया कार्यक्रम में शामिल होने शहर पहुंची टीवी एक्ट्रेस मुनमुन दत्ता ने मंगलवार की शाम शहर के पत्रकारो से चर्चा की। 

इस दौरान मुनमुन दत्ता उर्फ बबीता जी ने कहा कि छत्तीसगढ़ और खासकर बिलासपुर शहर में आकर उन्हें आत्मिक शांति का अनुभव हो रहा है नवरात्र में डांडिया या गरबा का आयोजन बहुत महत्व रखता है, इससे लोगों का आपसी भाईचारा और मेलजोल भी बढ़ता है। तारक मेहता का उल्टा चश्मा सीरियल के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इसी सीरियल से उन्हें टीवी स्क्रीन और पब्लिक के बीच पहचान मिली है। लगातार 11 साल से चल रहा यह सीरियल लोगों के बीच खासा लोकप्रिय है। वहीं मी टू अभियान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि लगभग सभी महिलाओं को उम्र के किसी न किसी पड़ाव पर लैंगिक शोषण का शिकार होना पड़ता है ,ऐसे में जो महिलाएं मी टू अभियान के तहत अपनी भावनाओं को व्यक्त कर रही हैं समाज को उनका सम्मान करना चाहिए।

मुनमुन दत्ता ने इस मौके पर बच्चों को संदेश देते हुए कहा कि बच्चों को टेक्नोलॉजी को दूर हटाकर एजुकेशन पर ध्यान देना चाहिए,इसके साथ ही खेलकूद में हिस्सा लेना चाहिये। इस मौके पर फाउंडेशन क्रिकेट एकेडमी के चैयरमेन प्रिंस भाटिया सहित परिवार के सदस्यों के साथ बड़ी संख्या में पत्रकार मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments