मामला SDM:-छत्तीसगढ़ सरकार खामोश ! SDM पर अब तक नहीं हुई कार्रवाई।छात्र संगठन ABVP समेत NSUI ने की तत्काल कार्यवाही की मांग।





बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) सड़क की मांग करने वाले स्कूली बच्चों पर लाठीचार्ज करने वाले बलौदाबाजार एसडीएम बाल आयोग के राडार में आ गए हैं। बावजूद इसके प्रदेश सरकार अब तक हरकत में नहीं आई है।वहीं कलेक्टर बलौदाबाजार से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद व एनएसयूआई ने एसडीएम तीर्थराज अग्रवाल के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा है और आंदोलन की चेतावनी भी दी है।

दरअसल मामला एसडीएम से जुड़ा हुआ है लिहाजा अंतिम निर्णय शासन को ही लेना है।वहीं घटना के तीसरे दिन भी कोई कार्यवाही न होना सरकार पर कई सवाल खड़े करता है।

मामले में बाल आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए दंडाधिकारी जांच की अनुशंसा कर तीन दिन के भीतर जवाब माँगा है।

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी बलौदाबाजार को पत्र जारी करते हुए बाल आयोग ने सख्त लहजे में कहा है कि 

धरने पर बैठे बच्चों पर एसडीएम
द्वारा लाठी बरसाना आपत्तिजनक 
व अत्यंत गम्भीर मामला है। 
बालक अधिकार संरक्षण अधिनियम 
के तहत बाल अधिकार पर 
अतिक्रमण कतई बर्दास्त नही किया 
जा सकता। 

मामले में एसडीएम का जो वक्तव्य सामने आया है उसमें उन्होंने शांतिपूर्ण प्रदर्शन की बात कही है और छात्रों को सड़क से हटाने के लिए लाठी चलाने की बात से इनकार किया है।दरअसल उन्हें यह नहीं पता कि कैमरे में कैद तस्वीरों में साहब लाठी भांजते हुए स्पष्ट नजर आ रहे हैं।

क्या है मामला

गौरतलब है कि बीते गुरुवार अटल विकास यात्रा के दूसरे चरण में जब मुख्यमंत्री का काफिला बलौदा बाजार जिले में एंट्री कर रहा था, उस दौरान पलारी विकासखण्ड के अमेरा में स्कूल तक सड़क की मांग को लेकर स्कूली छात्र - छात्रा धरने पर बैठ गए थे।

इस दौरान स्कूली बच्चों का प्रदर्शन करना व सड़क में बैठना वहां मौजूद एसडीएम तीर्थराज अग्रवाल को इस कदर नागवार गुज़रा था कि पहले उन्होंने मौके पर मौजूद फोर्स को बच्चों पर लाठी बरसाने का आदेश दिया। फिर भी जब बात नही बनी तो एसडीएम अग्रवाल खुद पुलिस का डंडा लेकर बच्चों पर टूट पड़े थे। इस दौरान एसडीएम अग्रवाल ने स्कूली छात्राओं तक को नही बख्सा और ताबड़तोड़ लाठियां बरसाते रहे।

Comments

Popular Posts

"जशपुरिया मॉडल दिल्ली में हुई हिट",मॉडल "रेने" का वह गाँव जहाँ से शुरू हुई संघर्ष की कहानी,पत्रवार्ता की टीम पंहुची रेने के घर

BREAKING(पत्रवार्ता)शासकीय महिला कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर,छग में भी लागू होगा चाइल्ड केयर लीव,हाईकोर्ट ने दिया आदेश..

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।