अब ! निगम की नजर नेहरू पर..? क्या सियासत का शिकार हो जाएंगे नेहरु.? नगर घड़ी को लेकर चर्चे का माहौल गरम।


बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) राजनीति में किसी भी अंदेशे से इनकार नही किया जा सकता। वो भी तब, जब एक ऐसा दौर चल रहा हो जिसमें काँग्रेस मुक्त भारत की बात की जा रही है। और पार्टी, नेता, उनसे जुड़ी योजना व स्मृति, सब   में बदलाव किया जा रहा है।

बिलासपुर में नेहरू चौक के बगल में 62 लाख की लागत से बना नवनिर्मिति नगर घड़ी इसी अंदेशे की ओर इशारा कर रहा है।

दरअसल नगर निगम बिलासपुर ने राजधानी रायपुर के तर्ज पर शहर के हृदय स्थल में नगर घड़ी स्थापित किया है। चूंकि नगर घड़ी जिस स्थान पर बनाया गया है उसके बगल में ही वर्षों पुरानी नेहरू की प्रतिमा स्थापित है। जिसे नेहरू चौक के नाम से जाना जाता है।

अब जब नेहरू चौक में ही उसके समकक्ष नगर घड़ी बन गयी है। जिसका जल्द सीएम के हांथों उद्घाटन भी किया जाना है, सवाल खड़े होने लगे हैं। अंदेशा ये भी है कि आने वाले दिनों में कहीं नगर घड़ी को घड़ी चौक का नाम देकर नेहरू कहीं शिफ्ट न कर दिए जाएं।

अंदेशे को इसलिए भी ज्यादा बल मिल रहा है, चूंकि शहर सत्ता में लम्बे समय से भाजपा काबिज है। मंत्री, विधायक, महापौर सभी भाजपा के है। ऐसे में इनके राज में शहर की पहचान किसी कांग्रेसी नेता के नाम पर हो तो इस अंदेशे की ओर इशारा होना लाज़मी है।

बहरहाल भाजपा जिस काँग्रेस मुक्त भारत की सियासत को लेकर आगे बढ़ रही है उसमें किसी भी अंदेशे से इनकार नही किया जा सकता। लेकिन इससे राजनीति जिस ओर जा रही है वो कहीं न कहीं स्वस्थ्य राजनीति पर बट्टा ज़रूर लगाती दिख रही है।

Comments

Popular Posts

"जशपुरिया मॉडल दिल्ली में हुई हिट",मॉडल "रेने" का वह गाँव जहाँ से शुरू हुई संघर्ष की कहानी,पत्रवार्ता की टीम पंहुची रेने के घर

BREAKING(पत्रवार्ता)शासकीय महिला कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर,छग में भी लागू होगा चाइल्ड केयर लीव,हाईकोर्ट ने दिया आदेश..

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।