छात्रावास के टीवी की पूरी कहानी से सामने आई एक और हकीकत ? पढ़ें पूरी कहानी


जशपुर (पत्रवार्ता.कॉम) कौवा कान ले गया ..आपको तो पता ही है ये कहावत अब लोग कान के पीछे भाग रहे हैं मामला दिलचस्प था तो हमने भी कान की पड़ताल शुरू की ....लोग ये नहीं देख रहे कि कान है भी या नहीं बस हल्ला हो गया की टीवी चोरी हो गई .....

दरअसल मामला है बगीचा के रोकड़ापाठ बालक आश्रम का जहाँ छात्रों के मनोरंजन के लिए शासन ने टीवी की व्यवस्था की  है ....अमूमन हर छात्रावास में यह व्यवस्था है जिससे छात्र रमन के गोठ और पीएम के मन की बात सुन सकते हैं ....यहाँ भी बच्चे बाकायदा टीवी में यह सब सुन रहे हैं देख भी रहे हैं .....

अचानक हल्ला हो गया की यहाँ जो टीवी शासन द्वारा दी गई थी वह गायब हो गई और वायरल वीडियो में यह भी बताया गया की फलां ने बताया कि फंला ले गया है ...फलां चोर है .....फंला...ये है वो है ......हमने भी सोचा आखिर फलां से बात तो करें की हकीकत क्या है....आखिर मामला बच्चों के मनोरंजन से जुडा था 

थोड़ी तहकीकात करने पर सारा सच सामने आ गया दरअसल गायब टीवी मंडल संयोजक बसंत गृही के पास नहीं बल्कि पूर्व बीईओ आई डी खलखो के पास है....और अब जानिए इसकी पूरी कहानी तत्कालीन एसडीम प्रेम पटेल द्वारा डीएव्ही स्कुल बगीचा में स्मार्ट क्लास के सञ्चालन के लिए उक्त टीवी बालक आश्रम से मंगाया गया था तब रोकड़ापाठ में टीवी चलाने के लिए लाईट की व्यवस्था नहीं थी ..इसके बाद जब डीएवी स्कुल को फंड प्राप्त हो गया तब यह टीवी डीएवी स्कुल द्वारा बीईओ आई डी खलखो को वापस कर दिया गया ....अब बीईओ साहब ने प्रभार में यह टीवी वापस नहीं किया ...जिससे यह कहानी शुरू हुई 

मामले में बीईओ से बात करने का प्रयास किया गया पर फोन नहीं लगा ....फिर से मंडल संयोजन बसंत गृही से टीवी के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया की प्रीमैट्रिक कन्या छात्रावास एकम्बा पिछले २ वर्षों से बंद है जहाँ से टीवी लाकर व्यवस्था के तहत रोकड़ापाठ में दिया गया है ....जिसका लाभ छात्र उठा रहे हैं ....पुराने टीवी के सवाल पर उन्होंने कहा की उनकी बात हुई है पूर्व बीईओ से जल्द ही वे टीवी प्रभारी को सौंप देंगे .....

चलिए ये तो तय हो गया कि फंला न तो टीवी ले गया है ...फलां न चोर है .....फंला...न ये है न वो है.....

एक और हकीकत 
दरअसल बगीचा विकास खंड के रोकड़ापाठ बालक आश्रम में विश्वनाथ प्रधान अधीक्षक के रुप में  पदस्थ हैं जिन्होंने वर्ग 1 में प्रमोशन पाकर मई माह में दुलदुला विकासखंड के शासकीय हाईस्कूल करडेगा में जॉइनिंग भी ले लिया है इसके बाद भी अब तक ये रोकड़ापाठ में छात्रावास अधीक्षक बन कर मलाईदार पद का लाभ ले रहे हैं अब तक इन्हें रिलीफ नहीं किया गया है ..जब मामले में विश्वनाथ प्रधान से बात की गयी थो उन्होंने बताया की सहायक आयुक्त को लेटर देने के बाद भी उन्हें रिलीफ नहीं किया गया है..... 







Comments

Popular Posts

"जशपुरिया मॉडल दिल्ली में हुई हिट",मॉडल "रेने" का वह गाँव जहाँ से शुरू हुई संघर्ष की कहानी,पत्रवार्ता की टीम पंहुची रेने के घर

BREAKING(पत्रवार्ता)शासकीय महिला कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर,छग में भी लागू होगा चाइल्ड केयर लीव,हाईकोर्ट ने दिया आदेश..

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।