.

बिलासपुर- सत्ता की शह में शराब का अवैध कारोबार-शैलेष,आबकारी और पुलिस के साथ सरकार के सांठगांठ का आरोप


बिलासपुर - प्रदेश में अवैध शराब की बिक्री पर कांग्रेस प्रवक्ता शैलेष ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा, कि सत्ता की शह में ही अवैध शराब का धंधा पनप रहा है। उन्होंने विधानसभा में सरकार द्वारा पेश आंकड़ों को आधार बनाते हुए सरकार पर गंभीर आरोप लगाये हैं।

हाल ही में विधानसभा के मानसून सत्र में प्रदेश में अवैध शराब की बिक्री के मामलों पर सरकार की ओर से ये जवाब दिया गया था। शैलेष ने कहा कि सरकार द्वारा पेश पिछले एक साल के आंकड़ें को देखने के बाद तो यही लगता है, कि अवैध शराब बिक्री का धंधा सरकार के संरक्षण पर चल रहा है।

पिछले एक साल में सरकार ने 11212 
अवैध शराब बिक्री के प्रकरण रिकार्ड में दर्ज 
किये हैं। अवैध शराब परिवहन का 882 प्रकरण
 दर्ज किया गया है। वही 7175 शराब खोरी के 
प्रकरण बनाये गए हैं। 

ऐसे में सरकार शराबबंदी के लिए शराब बेचने की कमान अपने हाथ में लेने की बात करती है, यहाँ तो सरकार शराब की बढ़ावा देती दिखाई दे रही है।

शैलेष ने आबकारी मंत्री पर निशाना साधते हुुए कहा, कि इस विभाग के मंत्री अपने ही जिले में अवैध शराब की बिक्री पर लगाम नहीं लगा पा रहे हैं। पिछले एक साल में बिलासपुर में 1236 अवैध शराब के प्रकरण बनाये गए हैं, जबकि रायपुर में 1405, जांजगीर में 1080 और महासमुंद में 1073 प्रकरण दर्ज है, मंत्री का गृह जिला अवैध शराब बिक्री में प्रदेश में दूसरे नंबर पर है, तो दूसरे जिलों का हाल भगवान् भरोसे ही है।

 सरकार अभी तक चखना दुकान, अवैध शराब की बिक्री और ना ही शराब कोचिये पर अंकुश लगा पाई है, रोजाना खरपतवार की तरह नए-नए शराब कोचिये पैदा होते जा रहे हैं। पूरे प्रदेश में खुलेआम अवैध शराब की बिक्री हो रही है।

शैलेष ने सवाल किया, कि क्या शासन सरकारी शराब दुकान के अधिक मुनाफा को देखकर अवैध शराब बेचने से लेकर शराब कोचियों को खुली छूट दे रखी है, या फिर सरकार ने आबकारी और पुलिस की सांठगांठ से इस अवैध कारोबार को खुला संरक्षण दे रखा है।
Share on Google Plus

About patravarta.com

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 Comments:

Featured Post

बच्चों के रिजल्ट से पहले व बाद में DIG रतनलाल डांगी का यह खत जरुर पढ़ें अभिभावक व बच्चे।

प्रिय अभिभावकों एवम् बच्चों , नम्बरों से ज्यादा आपके बच्चों की जिंदगी हैं,कम नम्बरों के तनाव से आप भी बाहर निकलो व बच्चों को भी निक...