Recents in Beach


जिले में श्रम नियमों की अनदेखी,मजदूर की मौत,जिम्मेदार कौन ..? बड़ा सवाल


नारायणपुर(पत्रवार्ता.कॉम) जिले में मजदुरों की मौत के कई मामले सामने आ चुके हैं बावजूद इसके जिले में श्रम नियमों को लेकर कोई कसावट नहीं दिख रही है।ताजा मामला है नारायणपुर का जहाँ बाजार भवन की छत में ढलाई पूर्व छत में सरिया बांधने के दौरान 11 केव्ही करंट प्रवाहित तार की चपेट में आने से झुलसे मजदूर की मौत हो गई। 

मिली जानकारी के मुताबिक, ग्राम पंचायत नारायणपुर द्वारा 20 लाख की लागत से बाजार शेड का निर्माण कराया जा रहा था। शनिवार को मजदूर इस निर्माणाधीन बाजार शेड की छत में सरिया बांधने की तैयारी में जुटे हुए थे। दोपहर तकरीबन साढ़े 12 बजे ग्राम पंचायत बोड़ालता के दाराखरिका निवासी राजमिस्त्री देवनंदन राम पिता चैतू राम उम्र 35 वर्ष अपने साथी मजदूरों के साथ भवन के ऊपर चढ़ कर लोहे का सरिया की कटाई का कार्य में जुटा हुआ था।


प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक छड़ की कटाई के लिये जैसे ही एक छड़ को देव नंदन ने जमीन से ऊपर की ओर उठाया,छड़ निर्माणाधीन भवन के छज्जे के बिल्कुल करीब से गुजरे हुए 11 केवी विद्युत आपूर्ति लाइन से जा टकराया। हाई वोल्टेज वाले करंट प्रवाहित तार की चपेट में आने से देव नंदन बुरी तरह झुलस गया। हादसे में गंभीर रुप से घायल देव नंदन को इलाज के लिए कुनकुरी होलिक्रोस अस्पताल में भर्ती कराया गया।यहां परीक्षण के बाद चिकित्सकों ने देवनंदन राम को मृत घोषित कर दिया।घटना की सूचना पर पुलिस ने मर्ग कायम पर मामले की जांच शुरू  कर दी है।

जैसे ही घटना की जानकारी ग्रामीणों को मिली तत्काल बिजली विभाग को फोन कर करेंट सप्लाई को रोक दिया गया। विभाग के जे ई लोकेश कुमार नामदेव ने कुछ देरी बाद आकर मौके का मुआयना कर पंच नामा बनाया ऒर मुवावजा प्रकरण जल्द बना कर आगे भेजे जाने की बात कही।

जेई ने बताया कि जब बिजली खम्बे के नीचे या एकदम समीप किसी को भी कुछ निर्माण कार्य करना होता है तो विभाग को इसकी जानकारी देनी होती है ।पर इस निर्माण कार्य मे पंचयात ने हमे कोई सूचना नही दिया गया है अगर सूचना दिया गया होता तो उतने देरी के लिए लाइन को बन्द कर दिया जाता  कम से कम ऐसी घटना तो नही होती।




Post a Comment

0 Comments