... Exclusive- सद्भावना रैली बदली दुर्भावना रैली में,पत्थरगढ़ी को तोड़ने का प्रयास,हालात तनावपूर्ण,प्रशासन अलर्ट

Exclusive- सद्भावना रैली बदली दुर्भावना रैली में,पत्थरगढ़ी को तोड़ने का प्रयास,हालात तनावपूर्ण,प्रशासन अलर्ट


जशपुर(पत्रवार्ता.कॉम) जिले में पत्थरगढ़ी को लेकर तनाव बढ़ता ही जा रहा है...आज बीजेपी द्वारा इसके विरोध में सद्भावना यात्रा निकाली गई थी जिसमे केन्द्रीय मंत्री विष्णु देव साय समेत राज्यसभा सांसद रणविजय सिंह जूदेव,प्रबल प्रताप सिंह जूदेव  व विधायक शामिल हुए ..आपसी सद्भाव बढ़ाने के लिए निकाली गई यह रैली अंततः आपसी दुर्भाव की रैली साबित हुई .केन्द्रीय मंत्री के इशारे के बाद रैली में शामिल लोग पत्थरगढ़ी को तोड़ने का प्रयास करने लगे जिससे तनाव की स्थिति निर्मित हो गई 


प्रबल प्रताप ने रैली के दौरान कहा की जो लोग भारतीय संविधान का अपमान कर रही है ऐसे लोगो का सीबीआई जांच होना चाहिए,अब समय आ गया है अपने समाज धर्म व राष्ट्र के लिए एक साथ काम करना है.उन्होंने वचन दिया कि जरुरत पड़ने पर अपनों के लिए वे अपनी जान भी दे सकते हैं .



उन्होंने अपने पिता को याद करते हुए कहा की "हम लाये हैं तूफ़ान से कश्ती निकल के इस क्षेत्र को रखना मेरे दोस्तों सम्हाल के"प्रबल ने समाज में विद्वेष फ़ैलाने वालों को षड्यंत्रकारी बताया और कहा कि बाहर से आये हुए लोगो को चेतावनी देनी है कि यदि समाज को तोड़ने की कोशिश करोगे तो पुरे दल बल के साथ आक्रमण बोल देंगे.. 


राज्यसभा सांसद रणविजय सिंह जूदेव ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि राजा विजय भूषण सिंह जूदेव जि के समय से जशपुर को सुरक्षित रखने का प्रयास किया जा रहा है जो जिम्मेदारी हमें मिली है उसे कायम रखना हम सबका दायित्व है ..


सद्भावना रैली में हजारों के हुजूम ने सभी नेताओं को ध्यान से सुना पर जोश के साथ होश खो बैठे उन्होंने रैली के बाद स्थापित पत्थरगढ़ी को ध्वस्त करने का प्रयास किये और बुटंगा में स्थापित किये जाने वाले अधूरे पत्थरगढ़ी को तोड़ दिया 


रैली के बाद महिला मोर्चा ने कमर कस ली और पत्थरगढ़ी तोड़ने की ओर कदम बढाया गया,मौके पर पुलिस प्रशासन व पत्रकारों को भी दौडाए जाने की खबर है फिलहाल बछरांव में स्थिति काफी तनावपूर्ण बताई जा आ रही है ..वहां स्थापित पत्थरगढ़ी को भी तोड़ने की रणनीति रैली के लोगों द्वारा बनाई गई है जिससे टकराहट की स्थिति उत्पन्न हो गई है 



विरोध करते रैली के लोग 




Post a comment

0 Comments