... बैंक प्रबंधन की मिलीभगत के बिना कैसे हुई केसीसी ठगी..?

बैंक प्रबंधन की मिलीभगत के बिना कैसे हुई केसीसी ठगी..?

"पुलिसिया जांच सवालों के घेरे में " ..?
जशपुर (पत्रवार्ता.कॉम) जिले में फर्जी केसीसी के माध्यम से ठगी के पहले भी कई मामले सामने आ चुके हैं जिनमें पुख्ता कार्यवाही के अभाव में बहुत ही कम मामलों में आरोपियों को सजा हो पाई है ताजा मामला है जशपुर के गम्हरिया ग्रामीण बैंक का जहाँ मृतक स्व. शिवनंदन सिंह के नाम पर बलराम तुरी द्वारा चरणामृत शर्मा के साथ मिलकर 50 हजार की फर्जी केसीसी बनवाकर रुपयों का गोलमाल किया गया है.उक्त मामले में पुलिस द्वारा दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है वहीँ इस मामले में बैंक प्रबंधन के मिलीभगत की जांच जशपुर पुलिस ने अभी शुरू नहीं की है।सवाल उठाना लाजिमी है जब मृत व्यक्ति के नाम पर केसीसी जारी हुआ,राशि का आहरण भी हुआ,दस्तावेजों में हेरफेर भी की गई बावजूद इसके बैंक प्रबंधन जाँच से बाहर..? 
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कलेश्वर सिंह पिता स्व.शिवनंदन सिंह निवासी बरगांव द्वारा प्राप्त आवेदन अनुसार आवेदक कलेश्वर सिंह के पिता के नाम से केसीसी के द्वारा पैसा निकालने की शिकायत की गई है जिसमे उल्लेख है की पिता स्व. शिवनंदन सिंह की वर्ष 2009 में मृत्यु हो चुकी है.उनका जमीन संबंधी ऋण पुस्तिका ग्राम माघेटोली निवासी बलराम पिता सुधवा तुरी द्वारा केसीसी कार्ड बनवाने के नाम पर लिया था।बलराम द्वारा फर्जी तरीके से उसके मृत पिता के नाम से केसीसी कार्ड बनवाकर ग्रामीण बैंक गम्हरिया से 50 हजार रुपयों का आहरण कर लिया गया। जबकि केसीसी संबंधी उसके पिता के द्वारा किसी प्रकार की कार्ड के लिए कोई आवेदन नहीं किया गया था।बलराम ने चरणामृत शर्मा के साथ मिलकर फर्जी तरीके से वर्ष 2010 में पैसा आहरण किया है।ग्रामीण बैंक गम्हरिया के अधिकारी कर्मचारी अब तक जशपुर पुलिस की जाँच से बाहर हैं। 

नोटिस मिलने पर हुआ मामले का खुलासा 
बैंक प्रबंधन द्वारा ऋण वसूली के लिए नोटिस मिलने पर मामले का खुलासा हुआ तब पता चला की उसके मृत पिता के नाम पर फर्जी केसीसी बनवाकर राशि का आहरण किया गया है.खास बात यह है की मृत पिता के नाम से केसीसी कार्ड बना है और उनके नाम से पैसा भी आहरण हुआ है। बिना बैंक प्रबंधन की मिलीभगत के बिना राशि का आहरण संभव नहीं ऐसे में बैंक प्रबंधन भी सवालों के घेरे में हैं । आवेदक ने बताया की उसके पिता के फोटो के स्थान पर बलराम के पिता सुधवा का फोटो चिपका हुआ है एवं हस्ताक्षर के स्थान पर अंगूठा के निशान हैं जबकि उसके पिता हस्ताक्षर करते थे। इस पुरे मामले में फिलहाल जशपुर पुलिस ने  भादवि की धारा 420,467,468,471,120बी के तहत मामला दर्ज कर लिया है वहीँ मामले की जांच की जा रही है,आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

"उक्त मामले में दो लोगों पर मामला दर्ज किया गया विवेचना जारी है बैंक प्रबंधन की संलिप्तता से इनकार नहीं किया जा सकता हर पहलु पर मामले की जाँच की जाएगी" योगेन्द्र साहू,कोतवाली प्रभारी जशपुर  
===============================




Post a comment

0 Comments