... साहब को चाहिए डीडीओ पावर,छीना चेकबुक और.....?

साहब को चाहिए डीडीओ पावर,छीना चेकबुक और.....?

पूर्व बीईओ ने पदमुद्रा समेत छीना चेकबुक 
शासकीय दस्तावेज गायब,मामला पहुंचा थाने
जशपुर (पत्रवार्ता.कॉम) निलंबन से वापसी के बाद पूर्व बीईओ आईडी खलखो इस बार पुरे जोश के साथ काम करने की जोर जुगत में लगे हुए हैं .इस जोर जुगत में साहब नियम कायदों को ताक में रखते हुए प्रभारी प्राचार्य और बाबू से ही जा भिड़े .न केवल उनके द्वारा स्टाफ पर दबाव बनाया जा रहा है बल्कि कोषालय का चेकबुक, प्राचार्य की पदमुद्रा व जावक पंजी भी  छिनकर उसे अपने साथ ले गए.आखिर उन्हें किसी भी हालत में डीडीओ पावर जो चाहिए .मामले में प्रभारी प्राचार्य द्वारा थाने में शिकायत करते हुए उच्चाधिकारियों तक बात पंहुचाई गई है.

जिले में आर्थिक अनियमितता की शिकायतें तो अपने सुनी होंगी पर यहाँ मामला है आहरण संवितरण अधिकारी के पद प्रभार का .बालक उमावि बगीचा में पूर्व बीईओ आईडी खलखो निलंबन से वापसी के बाद प्रभारी प्राचार्य बनकर वापस लौटे जहाँ उन्हें डीडीओ पावर नहीं मिला है इस विद्यालय में  आहरण संवितरण अधिकारी के रूप में एसएस ठाकुर को जिम्मेदारी मिली हुई है.जिला शिक्षा अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार आईडी खलखो व्याख्याता को मप्र/छग कोषालय संहिता भाग-1 स.नियम १२५ के तहत आहरण एवं सवितरण का अधिकार प्रदाय नहीं किया गया है बावजूद इसके जिला कोषालय को पत्र के माध्यम से एकतरफा वित्तीय प्रभार प्राप्त करने के लिए उनके द्वारा प्रयास किया गय है जो गलत है.

क्या है डीडीओ पावर
किसी भी शासकीय संस्था में राशि के आहरण संवितरण के लिए नियमानुसार अधिकारी को नियुक्त किया जाता है जिसके हस्ताक्षर से शासकीय राशि का लेनदेन कोषालय व बैंक से होता है.आर्थिक अनियमितता के आरोपों से घिरे अधिकारी कर्मचारी इसके लिए पात्र नहीं होते वहीँ श्री खलखो द्वारा निलंबन अवधि के भुगतान के लिए खासा  प्रयास किया जा रहा है 

पूर्व बीईओ पर अपराधिक मनोवृत्ति के  आरोप 
शिकायत आवेदन के अनुसार जिला शिक्षा अधिकारी के आदेश को भी आईडी खलखो द्वारा मानने से इनकार किया जा रहा है वही प्रभारी प्राचार्य श्री ठाकुर ने बताया कि उन्हें यह कहकर धमकी दी जा रही है कि मैं पूर्व में मर्डर कर चूका हु तुमको भी देख लूँगा ,मैं एकतरफा प्रभार ले लिया हु तुम आहरण संवितरण कार्य मत करो.वहीँ विद्यालय के स्टाफ ने बीईओ को लिखित शिकायत दिया है जिसमे उल्लेख है कि 21 फ़रवरी को श्री खलखो द्वारा पदभार ग्रहण करने के बाद से ही उन्हें मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है .उनके अपराधिक मनोवृत्ति के कारन सभी मानसिक तनाव में रहते हैं कभी भी कोई गंभीर घटना हो सकती है.पदस्थ कर्मचारियों शिक्षकों ने उनके अन्यत्र पदस्थापना किये जाने की बात कही है 

गौरतलब है की बगीचा में इनके कार्यकाल के दौरान दो बच्चों की मौत हुई थी जिसके बाद इन्हें निलंबित कर दिया गया था ..आयुक्त सरगुजा द्वारा लगभग 6 माह पहले ही घुघरी उमावि में इनको पदस्थ किया जा चूका था तब इनके द्वारा पदभार ग्रहण नहीं किया गया वही जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा 21 फ़रवरी को बगीचा बालक उमावि में इनकी पुनः पदस्थापना की गई जहाँ इन्होने प्रभारी प्राचार्य का पदभार ग्रहण किया.

लम्बे समय से विवादित रहे पूर्व बीईओ की शिकायत प्रभारी प्राचार्य एसएस ठाकुर समेत स्टाफ द्वारा उच्चाधिकारियों के पास की गई है जिसमे जांच कार्यवाही की बात कही जा रही है वहीँ पुलिस द्वारा भी मामले की जाँच की जा रही है.

"शिकायत आवेदन प्राप्त हुई है,मामले में जांच की जा रही है जांच उपरांत दोषी पाए जाने पर कार्यवाही की जाएगी."
राजेश मरई,थाना प्रभारी बगीचा 
============================
"प्रभारी प्राचार्य एसएस ठाकुर से जानकारी मिली है कि आईडी खलखो व्याख्याता द्वारा चेकबुक,कैशबुक,पदमुद्रा छीन लिया गया है,उक्त मामले में उन्हें डीडीओ पावर नहीं है.मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत कराने के बाद आगे की कार्यवाई की जाएगी."
एमार यादव,बीईओ बगीचा  


Post a comment

0 Comments