... ब्रेकिंग पत्रवार्ता : "पूर्व मंत्री गणेश राम भगत " ने "प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत" को दी खुली चुनौती......? जनजातीय सुरक्षा मंच के आमसभा में जमकर बरसे भगत,देखिये वीडियो शासन प्रशासन पर गंभीर आरोप ....?

ब्रेकिंग पत्रवार्ता : "पूर्व मंत्री गणेश राम भगत " ने "प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत" को दी खुली चुनौती......? जनजातीय सुरक्षा मंच के आमसभा में जमकर बरसे भगत,देखिये वीडियो शासन प्रशासन पर गंभीर आरोप ....?

जशपुर,टीम पत्रवार्ता,23 मार्च 2021

BY योगेश थवाईत 

इन दिनों पूर्व मंत्री गणेश राम भगत और जशपुर के प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत के बीच आरोप प्रत्यारोपों का दौर जारी है।बगीचा में आयोजित जनजातीय सुरक्षा मंच की रैली के बाद आमसभा में पूर्व मंत्री ने इस बार तो प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत को खुला चैलेन्ज कर दिया और यहाँ तक कह दिया कि मैंने जिनसे जमीन खरीदी है उन्हें अदिवासी सिद्ध कर के बताएं।प्रभारी मंत्री अपनी गलती छुपाने के लिए उनपर आरोप लगा रहे हैं। 

गौरतलब है की प्रभारी मंत्री के बेटे द्वारा पाठ में जमीन की रजिस्ट्री कराए जाने के मामले के बाद पूर्व मंत्री गणेश राम भगत की 5 एकड़ जमीन को लेकर भी प्रभारी मंत्री ने आवाज उठाई थी और नैतिकता का निर्वहन करते हुए बीजेपी नेताओं को जमीन वापस करने की मांग की थी।

इधर प्रशासन द्वारा रैली आमसभा की अनुमति नहीं देने से पूर्व मंत्री पहले ही नाराज थे उन्होंने कहा कि पिछले पंद्रह वर्षों से वे जनजातीय सुरक्षा मंच के बैनर तले जनहित से जुड़े मुद्दों पर मुखर रहे हैं और लगातार आंदोलनरत हैं।जिला प्रशासन ने जनजातीय सुरक्षा मंच को समझने में भूल कर दी।उन्होंने कहा कि जनजातीय सुरक्षा मंच 15 साल पुराना आंदोलन है जो विधिक साक्षरता के साथ देश के संविधान को जनता तक पंहुचाने का काम करता है।जनजातीय सुरक्षा मंच के द्वारा आदिवासियों,गरीब व पिछड़े वर्ग के लोगों को सतत विधिक मार्गदर्शन के साथ धर्मांतरण,गौहत्या समेत आदिवासियों के हित को लेकर लगातार आवाज उठाने का कार्य किया जा रहा है।ऐसे में प्रशासन द्वारा कार्यक्रम की अनुमति नहीं देना कई सवाल खड़े करता है।

देखिये वीडियो पूर्व मंत्री ने क्या कहा 

पूर्व मंत्री ने प्रशासन पर सत्तादल के दबाव में आकर कार्य करने का आरोप लगाया।उन्होंने प्रशासन से सवाल किया कि कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के बीच 22 मार्च को एनजीओ का कार्यक्रम हजारों की भीड़ में कैसे हो गया और वह कार्यक्रम किसकी अनुमति से हुआ..? क्या उससे कोरोना का खतरा नहीं था ....? 

आमसभा को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री ने प्रशासन पर जमकर भड़ास निकाली उन्होंने कड़े लहजे में कहा शासन प्रशासन की दमनकारी नीति यहां नहीं चलेगी।चंगाई,खुलेआम धर्मान्तरण,मनरेगा में भ्रष्टाचार,फर्जी जमीन रजिस्ट्री,प्रधानमंत्री सड़कों के घटिया निर्माण जैसे मुद्दों पर उन्होंने प्रशासन को आड़े हाथों लिया।

उक्त कार्यक्रम में जनजातीय सुरक्षा मंच के उपाध्यक्ष चंद्रदेव ग्वाला,हितरक्षा प्रमुख रामप्रकाश पांडेय,महिला नेत्री रायमुनी भगत,कृपाशंकर,रोशन प्रताप,राजकुमार गुप्ता ने आमसभा को संबोधित किया।कार्यक्रम के समापन में  तहसीलदार टीडी मरकाम व रौशनी तिर्की को ज्ञापन सौंपकर एक महीने का अल्टीमेटम देते हुए पाठ क्षेत्र में पहाड़ी कोरवाओं की जमीन खरीदी की जांच की मांग की अन्यथा तहसील के सामने मरने तक धरना देने की बात कही।

Post a comment

0 Comments