... सुनो सरकार ! नींद से जागो ,"देखो मशाल की रोशनी में चारपाई पर सिस्टम की तस्वीर " ये "जशपुर" है और "छत्तीसगढ़ सरकार" का लाचार सिस्टम .......? Video

सुनो सरकार ! नींद से जागो ,"देखो मशाल की रोशनी में चारपाई पर सिस्टम की तस्वीर " ये "जशपुर" है और "छत्तीसगढ़ सरकार" का लाचार सिस्टम .......? Video


जशपुर,टीम पत्रवार्ता,29 जुलाई 2020

छत्तीसगढ़ के सुदूर वनांचल जशपुर में विकास के सरकारी दावों की पोल खोलने वाली खबर सामने आई है।जहां सरकारी तंत्र महज दिखावा बनकर रह गया।देर रात एक बीमार महिला इलाज के लिए तड़पती रही और उसे अस्पताल लाने के लिए एम्बुलेंस तक नहीं मिली।गांव के सरपंच ने हिम्मत दिखाते हुए मानवता का परिचय दिया और उसके परिजनों के साथ मिलकर चारपाई में लिटाकर अंधेरी रात में मशाल की रोशनी में 2 किलोमीटर पैदल लेकर मुख्य मार्ग तक पंहुचे।जहां से वाहन की व्यवस्था करके उसे बगीचा अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टर ने महिला की गंभीर स्थिति को देखते हुए उसका प्राथमिक ईलाज भी नहीँ किया और उसे बड़े अस्पताल जाने की सलाह देकर अपना पल्ला झाड़ लिया।

Video 

 

मामला है जशपुर जिले के बगीचा विकासखंड का जहां तांबाकछार गांव के आश्रित ग्राम जबला में देर रात एक महिला की तबियत बिगड़ी और उसे रक्त स्त्राव शुरु हो गया।देखते ही देखते उसकी तबियत काफी बिगड़ गई और वह गंभीर हो गई।जबला गांव की स्थिति इतनी भयावह है कि यह आज भी यह गांव विकास की मूलभूत सुविधाओं से वंचित है।यहां पंहुचने के लिए ग्रामीणों को सड़क,नदी में पुल व बिजली तक मयस्सर नहीं।


जबला गांव से तांबाकछार तक परिजनों ने पीड़ित महिला को चारपाई में लिटाकर कंधो में लादकर 2 किलोमीटर का पैदल सफर तय किया।जहां बिजली न होने के कारण मशाल की रोशनी में उन्होंने बहती नदी को पार किया और वाहन तक पंहुचे।


जब परिजन बगीचा अस्पताल पंहुचे तो यहां भी बीमार महिला का इलाज नहीं हुआ।यहां डाक्टर ने उसकी गंभीर स्थिति को देखने के बाद भी उसकी प्राथमिक चिकित्सा भी नहीं की और उसे बाहर जाने की सलाह दी।परिजन तड़के उसे लेकर होलीक्रॉस अस्पताल पंहुचे जहां उसका इलाज शुरु किया गया।

Video


फिलहाल इस घटना ने शासन के तमाम दावों की पोल खोलकर रख दी है वहीं मानवीय मूल्यों पर भी सवालिया निशान लगा दिया है।



Post a comment

0 Comments