ब्रेकिंग पत्रवार्ता:- केंद्रीय मंत्री विष्णुदेव साय की ख़री खरी,मानवीय मूल्यों को न भूलें नौकरशाह।


By योगेश थवाईत

रायगढ(पत्रवार्ता) जब किसी का आशियाना उजाड़ दिया जाए तो फिर उसके पास कुछ नहीं बचता और उसके जीवन की जमा पूंजी तक खत्म हो जाती है।ऐसे में यदि मौजूदा सरकार से उसे संबल नहीं मिलता तो इससे बड़ी विडंबना भला क्या हो सकती है।

केंद्रीय मंत्री विष्णुदेव साय 
ने प्रदेश सरकार पर जमकर 
निशाना साधा है और 
नौकरशाहों को आगाह किया है 
कि किसी भी कार्रवाई में 
मानवीय मूल्यों का ध्यान रखना
बेहद जरूरी है।

दरअसल रायगढ़ के कलमीडीपा में 62 परिवारों को बिना व्यस्थापन जेसीबी चलवाकर बेघर कर दिया गया जिसपर केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री व रायगढ़ सांसद विष्णु देव साय ने गहरी आपत्ति जताई है।

विष्णुदेव साय ने कहा कि प्रशासन को पहले पीड़ित परिवारों के रहने की व्यवस्था सुनिश्चित करनी चाहिए।इस प्रकार सरकार के इशारे पर दमन की नीति बिलकुल उचित नहीं है। प्रशासन पहले इन परिवारों को उनकी सहमति के आधार पर अटल आवास, ईडब्ल्यूएस अथवा अन्य योजनाओं के तहत मकान मुहैय्या कराए और उचित मुआवजा दे।

श्री साय ने बताया कि कलमी के जिस जमीन पर ये 62 परिवार वर्षों से निवास कर रहे है उन्हें  किसी भी कारण से इस कड़कड़ाती ठंड में अचानक यूं बेघर करना मानवीय मूल्यों के विपरीत है।

उन्होने कहा कि भाजपा सरकार के समय निगम क्षेत्र में सड़कों के चौड़ीकरण के दौरान उसकी जद में आने वाले कब्जाधारी सैकड़ो परिवारों को अटल आवास प्रदान किये गए थे।यहां तक कि प्रशासन ने इन रहवासियों को नए घर मे शिप्ट होने के लिए निगम के वाहन भी मुहैया कराए थे।

उसी तर्ज पर इन रहवासियों के लिए भी पहले उनकी सहमति के आधार पर शासन प्रशासन मकान आबंटित करे उसके बाद ही उन्हें उस जगह से बेदखल करे। 

यहां सबसे आवश्यक यह है कि स्थानीय प्रशासन उनकी बात सुने और उनकी व्यवस्था सुनिश्चित होने के बाद ही कोई कदम उठाए।इस तरह ठंड में बेघर किये जाने को लेकर उन्होंने कड़ी आपत्ति जताई है।

Comments

Popular Posts

"जशपुरिया मॉडल दिल्ली में हुई हिट",मॉडल "रेने" का वह गाँव जहाँ से शुरू हुई संघर्ष की कहानी,पत्रवार्ता की टीम पंहुची रेने के घर

BREAKING(पत्रवार्ता)शासकीय महिला कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर,छग में भी लागू होगा चाइल्ड केयर लीव,हाईकोर्ट ने दिया आदेश..

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।