दंतेवाड़ा के चर्चित मड़कम हिड़मे के अपहरण, दुष्कर्म व हत्या के मामले में हाईकोर्ट से पुलिस को क्लीन चिट


बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) दंतेवाड़ा के चर्चित मड़कम हिड़मे के अपहरण, दुष्कर्म व हत्या के मामले में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुकमा ने दंतेवाड़ा पुलिस को क्लीन चिट दे दी है। जिला कोर्ट के रिपोर्ट के आधार पर हाईकोर्ट ने दायर याचिका को निराकृत कर दिया है। दंतेवाड़ा निवासी लक्ष्मी हिड़मे ने पुलिस पर बेटी मड़कम हिड़मे का अगवा कर दुष्कर्म के बाद हत्या का आरोप लगाते हुए न्याय की गुहार लगाई थी।


मामले की सुनवाई हाईकोर्ट के डिवीजन बेंच के समक्ष हुई। राज्य शासन ने जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा की गई जांच रिपोर्ट की कॉपी कोर्ट में पेश की। जांच रिपोर्ट में पुलिस को क्लीनचिट है। रिपोर्ट का अध्यन करने के बाद डिवीजन बेंच ने याचिका को निराकृत कर दिया है।

याचिकाकर्ता लक्ष्मी ने पुलिस की करतूतों को उजागर करते हुए अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि आज से दो साल पहले रात में पुलिस के जवान गाड़ी में बैठकर उसके घर आए और बिना कुछ कहे घर में घुसकर उसके 16 साल की बेटी मड़कम हिड़मे को जबरिया उठाकर अपने साथ ले गए। पूछने पर पुलिस के जवानों ने मड़कम को नक्सल गतिविधियों में शामिल होने व नक्सली नेताओं को सहयोग करने का आरोप मढ़ दिया। परिवार के सदस्य बेटी को छुड़ाने के लिए गिड़गिड़ाते रहे पर जवानों ने एक नहीं सुनी। दूसरे दिन पुलिस थाना से कुछ दूर उसकी लाश मिली। लक्ष्मी ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर पुलिस पर आरोप लगाए कि बेटी का अपहरण कर उसकी अस्मत लूटी और साक्ष्य छुपाने फिर उसकी हत्या कर दी गई। 

बीते सुनवाई के दौरान डिवीजन बेंच ने राज्य शासन व डीजीपी को नोटिस जारी कर मामले की जांच कराने के निर्देश दिए थे। राज्य शासन ने जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा की गई जांच रिपोर्ट की कॉपी कोर्ट में पेश की। जांच रिपोर्ट में पुलिस को क्लीनचिट है। रिपोर्ट का अध्यन करने के बाद डिवीजन बेंच ने याचिका को निराकृत कर दिया है।



Comments

Popular Posts

"जशपुरिया मॉडल दिल्ली में हुई हिट",मॉडल "रेने" का वह गाँव जहाँ से शुरू हुई संघर्ष की कहानी,पत्रवार्ता की टीम पंहुची रेने के घर

BREAKING(पत्रवार्ता)शासकीय महिला कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर,छग में भी लागू होगा चाइल्ड केयर लीव,हाईकोर्ट ने दिया आदेश..

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।