... सरोकार : छत्तीसगढ़ में 11 साल के मासूम प्रखर ने किया पहला बाल्य मृतक अंगदान,डॉक्टर्स के द्वारा प्रखर को ब्रेन डेथ घोषित करने के बाद माता पिता ने लिया अंगदान का निर्णय,प्रखर के अंगदान से कई लोगों को मिली नई जिंदगी,रायपुर पुलिस ने बनाया ग्रीन कॉरिडोर, सोट्टो ने किया अंगदान में सहयोग।

आपके पास हो कोई खबर तो भेजें 9424187187 पर

सरोकार : छत्तीसगढ़ में 11 साल के मासूम प्रखर ने किया पहला बाल्य मृतक अंगदान,डॉक्टर्स के द्वारा प्रखर को ब्रेन डेथ घोषित करने के बाद माता पिता ने लिया अंगदान का निर्णय,प्रखर के अंगदान से कई लोगों को मिली नई जिंदगी,रायपुर पुलिस ने बनाया ग्रीन कॉरिडोर, सोट्टो ने किया अंगदान में सहयोग।

 


रायपुर,टीम पत्रवार्ता,06 जून 2024

By योगेश थवाईत 

छत्तीसगढ़ में मृतक अंगदान में पहली बार बाल्य मृतक अंगदान से कई लोगों को नई जिंदगी मिली है। 11 साल के प्रखर साहू पिछले पाँच दिनों से रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल में भर्ती थे।दरअसल खेलते वक़्त सर में चोट लगने की वजह से उन्हें भर्ती कराया गया था।प्रखर की मां मंजू साहू और पिता रमेश साहू 1 जून से अपने बच्चे के ठीक होने का इंतज़ार कर रहे थे। सिर में गहरी चोट होने के कारण चिकित्सकों ने देर शाम 5 जून को प्रखर को ब्रेन डेथ घोषित कर दिया।

प्रखर अपने माता पिता का लाडला था जो कक्षा सातवीं का छात्र था। प्रखर को फुटबॉल खेलने का बहुत शौक था, हालही में दोस्तों के साथ फुटबॉल खेलते खेलते फुटबॉल के स्टैंड से उसके सर पर गहरी चोट आई थी जिसे ईलाज के लिए एक जून को रामकृष्ण हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। 

ब्रेन डेथ होने के कारण डॉक्टरों के द्वारा सुझाव दिए जाने के बाद ट्रांसप्लांट कोऑर्डिनेटर उमाशंकर मिश्रा और डॉ. निकिता श्रीवास्तव ने प्रखर के माता पिता को अंगदान का सुझाव दिया। भविष्य में जीवित होने की प्रखर की सभी संभावनाओं को देखते हुए बहुत ही भारी मन से, हिम्मत बांधते हुए प्रखर के माता पिता ने अपने बच्चे के अंगों एवं उत्तक (किडनी, लिवर, कॉर्निया और हार्ट वाल्व) का दान करने का फैसला लिया। 

छत्तीसगढ़ में अब तक सात मृतक अंगदान किये जा चुके हैं जिससे अब तक 17 लोगों को ज़िन्दगी की उम्मीद दी गयी है। जिसमें 13 किडनी और 4 लिवर शामिल है। प्रखर इस श्रृंखला में आठवां है। छत्तीसगढ़ में बाल्य मृतक अंगदान में प्रखर पहला बच्चा है, जिसने अपने त्याग से दूसरों को जीने का मौका दिया है। 

प्रखर का लिवर और एक किडनी रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल को सौंपा गया है एवं एक किडनी एम्स रायपुर को दिया गया। कॉर्निया डॉ. भीमराव आंबेडकर मेमोरियल हॉस्पिटल तथा हार्ट वाल्व सत्य साई हॉस्पिटल नवा रायपुर को दिया गया। 

रामकृष्ण हॉस्पिटल से डॉ. नईम, डॉ. अजीत मिश्रा, डॉ. युक्तांश पांडे, डॉ. राजकुमार, डॉ. धीरज, डॉ. हर्ष जैन और डॉ. मलय रंजन (सभी यूरोलॉजी) के साथ डॉ. संदीप दवे, डॉ. अजय पाराशर, डॉ. प्रवाश कुमार चौधरी, डॉ. संजीव काले (सभी नेफ्रोलॉजी), डॉ. श्रुति खड़खेडकर (एनेस्थिसियोलॉजी), डॉ. अखिल जैन (एचसीओओ) और रामकृष्ण के उनके सहयोगियों ने बहुत सावधानी से 66 वर्षीय पुरुष में लीवर और 43 वर्षीय महिला में किडनी प्रत्यारोपित की।

वहीँ किडनी एम्स रायपुर के डॉ. विनय राठौड़, डॉ. अमित आर शर्मा, डॉ. दीपक कुमार बिस्वाल, डॉ. प्रधुम्न यादव, डॉ. सरयू गोयल, डॉ. संदीप महादेव देसाई और उनकी टीम को सौंपा गया, जिसे 10 साल के बच्चे में लगाया गया। 

इस अंगदान से बहुत से लोगों में हिम्मत बंधी है और सभी इसे एक नए सुनहरे भविष्य की तरह देख रहे हैं। सोट्टो के निदेशक प्रोफेसर डॉक्टर विनीत जैन इस घटना को एक मील के पत्थर के रूप में देख रहे हैं। उनका मानना है की यदि छोटे बच्चों के माता पिता अपना स्वार्थ छोड़कर औरों के भविष्य के बेहतर प्रयास में अपनी भागीदारी निभा रहे है तो इनसे प्रेरणा लेकर और लोग भी अंगदान के लिए आगे आएंगे और हमारे देश में जो अंगों की ज़रूरत का आंकड़ा है उसे पूरा करने में सहायता करेंगे। 

नोडल अफसर डॉ. कमलेश जैन ने रामकृष्ण हॉस्पिटल व  एम्स रायपुर की सभी डॉक्टर्स और स्टाफ की टीम को इस सफल अंगदान और प्रत्यारोपण की ढेर सारी बधाइयाँ दी हैं।इस मौके पर रायपुर पुलिस प्रशासन का महत्पूर्ण योगदान रहा है जिन्होंने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर सही समय में अंगो को जरूरतमंद व्यक्ति तक पहुंचाने में सहायता की। जिससे कई जिंदगियां आज नए भविष्य को देख रहे हैं।


Post a Comment

0 Comments

जशपुर की आदिवासी बेटी को मिला Miss India का ख़िताब