.

अच्छी पहल- जशपुर में पहली बार D SARDA तकनीक से हर्निया का सफल आपरेशन।



जशपुर (पत्रवार्ता.कॉम) धर्माथ चिकित्सालय वनवासी कल्याण आश्रम में चल रहे शल्य क्रिया शिविर मे D SARDA ( डी सारदा) तकनीक से हर्निया के कई आपरेशन किये गए।

यह नवीनतम तकनीक कई देशों में प्रचलित हो रही है, भारत मे भी इसका प्रचलन बढ़ रहा है। अभी जितनी भी हर्निया आपरेशन की तकनीके विश्व भर में प्रचलित है, उनमे हर्निया को ठीक करने के लिए एक कृत्रिम जाली लगाई जाती है, जो कि हर्निया को ठीक करने का काम करती है।

डी सारदा तकनीक में कृत्रिम 
जाली की जगह पर शरीर के ही स्नायु
को जाली की तरह उपयोग ला कर हर्निया का 
निदान किया जाता है, कृत्रिम जाली लगा कर करने की 
तुलना में इस तकनीक से आपरेशन करने पर रुग्ण को 
आपरेशन पश्चात पीड़ा में कम होती है,रुग्ण आपरेशन के 8 से 12 घंटे के बाद चल सकता है, सामान्य  भोजन कर सकता है और जल्दी घर जा  रोजमर्रा के कार्य कर सकता है।

जाली लगाने की तुलना में इस उन्नत तकनीक का सबसे बड़ा लाभ है संक्रमण (इन्फेक्शन) की कमी, कृत्रिम जाली लगाने के बाद संक्रमण का खतरा कई दिनों तक बना रहता है और संक्रमण होने की स्थिति में पुनः आपरेशन करना पड़ता है, इस तकनीक में चूंकि शरीर के अपने ही स्नायु का उपयोग होता है अतः संक्रमण का खतरा न्यूनतम होता है।

ऑपेरशन के पश्चात पुनः हर्निया होने की संभावना दोनो ही तकनीकों में करीब एक सी ही होती है। इस तकनीक से डॉ अनामय कमलाकर बीडवई ने चार हर्निया का आपरेशन किया, इसके अलावा 7 और मेजर आपरेशन हुए। निश्चेतना रायपुर से पधारे विशेषज्ञ डॉ अनीश गोलछा ने दी।इस शिविर में शल्य क्रिया के अलावा रायपुर से पधारे देश भर में ख्यात  वरिष्ठ अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ शम्भू  बनर्जी ने परामर्श सेवा दी जिसके जशपुर नगर और ग्रामीण क्षेत्रो से आये रोगियों ने  लाभ उठाया।शिविर दिनाक १७ जून तक चलेगा।

कल्याण आश्रम के कार्यकर्ता और धर्मार्थ चिकित्सालय की कार्यकारिणी के सदस्य संजय पाठक ने शाल,श्रीफल,आभार चिन्ह और जशपुर का प्रसिद्ध जिराफुल चावल भेट कर डॉ शम्भू बनर्जी के प्रति स्नेह और आभार प्रकट किया और डॉ बनर्जी से शीघ्र पुनः जशपुर आने का आग्रह किया।
Share on Google Plus

About patravarta.com

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 Comments:

Featured Post

बच्चों के रिजल्ट से पहले व बाद में DIG रतनलाल डांगी का यह खत जरुर पढ़ें अभिभावक व बच्चे।

प्रिय अभिभावकों एवम् बच्चों , नम्बरों से ज्यादा आपके बच्चों की जिंदगी हैं,कम नम्बरों के तनाव से आप भी बाहर निकलो व बच्चों को भी निक...