... विरोध : अब स्टील प्लांट के विरोध में सामने आए जशपुर विधायक,नैसर्गिक वातावरण को नष्ट करने वाले किसी लौह उद्योग को जशपुर जिले में स्थापित होने नहीं देंगे-विनय भगत,"लौह उद्योग " से नष्ट हो जाएगी "उपजाऊ" जमीन,डेढ़ लाख मीट्रिक टन राखड़ से बंजर होगी जमीन,किसानों के सामने होगा खेती का संकट...

प्रवेश प्रारम्भ

प्रवेश प्रारम्भ

Google

आपके पास हो कोई खबर तो भेजें 9424187187 पर

विरोध : अब स्टील प्लांट के विरोध में सामने आए जशपुर विधायक,नैसर्गिक वातावरण को नष्ट करने वाले किसी लौह उद्योग को जशपुर जिले में स्थापित होने नहीं देंगे-विनय भगत,"लौह उद्योग " से नष्ट हो जाएगी "उपजाऊ" जमीन,डेढ़ लाख मीट्रिक टन राखड़ से बंजर होगी जमीन,किसानों के सामने होगा खेती का संकट...

 


जशपुर,टीम पत्रवार्ता,29 जुलाई 2021

BY योगेश थवाईत

जशपुर जिले के कांसाबेल टांगरगाँव में प्रस्तावित स्पंज आयरन,स्टील प्लांट के विरोध में अब जशपुर विधायक विनय भगत खुलकर सामने आ गए हैं।उल्लेखनीय है की कुनकुरी विधायक यूडी मिंज के बाद अब जशपुर विधायक ने साफ़ शब्दों में कहा है कि जशपुर की प्राकृतिक छटा व नैसर्गिक सौन्दर्य को बिगाड़ने वाले किसी लौह उद्योग को जशपुर जिले में स्थापित नहीं होने देंगे।उन्होंने इसकी स्थापना को पर्यावरण के लिए घातक बताते हुए कहा कि उक्त प्लांट की स्थापना से यहाँ की उपजाऊ जमीन बंजर हो जाएगी और किसानों के सामने खेती का संकट खड़ा हो जाएगा।

जशपुर विधायक विनय भगत ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर टांगरगाँव में प्रस्तावित स्पंज आयरन,स्टील प्लांट के विरुद्ध अपना विरोध प्रदर्शित किया है।उन्होंने हिमाचल,उत्तराखंड,मिजोरम,नागालैंड का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए कहा कि यहाँ किसी प्रकार के प्रदुषण फैलाने वाले उद्योग नहीं हैं। यहाँ लोग उन्नत खेती और पर्यटन के माध्यम से आत्मनिर्भर हैं।उन्होंने भूपेश सरकार की गौठान योजना के माध्यम से महिला शक्तिकरण को आगे बढाने की बात कही। जशपुर जिले में पर्यटन उद्योग की अपार संभावनाएं हैं जिसके लिए मास्टर प्लान तैयार कर शासन स्तर पर प्रयास किया जा रहा है।

श्री भगत ने लौह उद्योग की स्थापना से सबसे बड़ा खेती का संकट बताया है।उन्होंने बताया कि इस उद्योग की स्थापना से सालाना डेढ़ लाख मीट्रिक टन राखड उत्पादित होगा जिसकी खपत का कोई विकल्प जिले में नहीं है।ऐसी स्थिति में खेतीहर जमीन बंजर हो जाएगी और राखड के फैलाव से पर्यावरण प्रदुषण के साथ कई प्रकार की बीमारियाँ भी फैलेंगी।उन्होंने गुल्लू  पावर प्रोजेक्ट का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए गुल्लू क्षेत्र में आज किसानों की दुर्दशा हैं जिन्हें रवि की फसल के लिए पर्याप्त पानी नहीं मिल पाता वहीँ स्थानीय लोगों को इस प्रोजेक्ट से कोई लाभ नहीं हुआ।

कांसाबेल के टांगरगाँव में प्रस्तावित कुदरगढ़ी स्टील स्पंज आयरन प्लांट का उन्होंने विरोध करते हुए कहा कि जो जमीन रिकार्ड में उन्नत खेती की जमीन हैं जहाँ से सबसे ज्यादा फसल का उत्पादन होता आया है।आज उस जमीन को बंजर करते हुए उसके औद्योगिक उपयोग की तैयारी की जा रही है।इससे न केवल वहां की जमीन बंजर होगी बल्कि आसपास के सैकड़ों गाँव इससे प्रभावित होंगे।

जशपुर विधायक विनय भगत ने इको फ्रेंडली उद्योग की स्थापना की बात कही है वहीँ जशपुर जिले के प्राकृतिक वातावरण को नष्ट करने वाले लौह उद्योग का उन्होंने बहिष्कार किया है।उन्होंने साफ़ व स्पष्ट शब्दों में कहा कि जशपुर जिले में प्रदुषण फैलाने वाले किसानों की जमीन को बंजर बनाने वाले किसी भी लौह,स्टील उद्योग को जशपुर जिले में स्थापित होने नहीं देंगे।

Post a Comment

0 Comments