... CVRU में बी.वॉक डिग्री पाठ्यक्रम शुरू, 15 विषयों में स्टूडेंट कर सकेंगे पढ़ाई..

CVRU में बी.वॉक डिग्री पाठ्यक्रम शुरू, 15 विषयों में स्टूडेंट कर सकेंगे पढ़ाई..



बिलासपुर(पत्रवार्ता.कॉम) डाॅ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय कोटा में इस शिक्षा सत्र से बैचलर आॅफ वोकेशन (बी.वोक) डिग्री पाठयक्रम शुरू किया जा रहा है। किसी भी उम्र के 12वीं पास विद्यार्थी सीवीआरयू के बी.वोक पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकेंगें। यह मल्टीपल इंट्री एंड एक्जिट सिस्टम का पाठ्यक्रम है। विद्यार्थी को पहले 6 माह कोर्स करने पर सर्टिफिकेट, 1 साल के कोर्स करने पर डिप्लोमा, 2 साल की पढ़ाई पूरी करने पर एडवांस डिप्लोमा और तीन वर्ष के पाठ्यक्रम की पढ़ाई पूरी करने पर बी.वोक की डिग्री प्राप्त होगी। तीन वर्ष के पाठ्यक्रम को विद्यार्थी अपनी समय व सुविधा के अनुसार पढ़ाई करके पूरा कर सकतेे हैं।सीवीआरयू के इस शिक्षा सत्र में बी.वोक के 15 विषयों में विद्यार्थी पढ़ाई कर सकेंगे। 


जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के कुलाधिपति संतोप चौबे ने बताया कि शिक्षा के क्षेत्र में वैश्विक स्तर पर तेजी से बदलाव हो रहा है। बदलती परिस्थियों के साथ अब शिक्षा में भी बदलाव की जरूरत है। देश के युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार योग्य बनाने के लिए इस बदलाव को स्वीकार करते हुए वैश्विक स्तर के साथ चलना होगा। बी.वोक कोर्स ऐसा ही एक पाठ्यक्रम है जो दूरवर्ती शिक्षा और नियमित शिक्षा के बीच विद्यार्थियों की बेहतर सुविधा के लिए सेतु का काम करेगा। सही मायने में यह बी.वोक. भविप्य की पढ़ाई है। 12वीं पास हर वर्ग का व्यक्ति यह कोर्स कर सकेगा। श्री चौबे ने बताया कि इस कोर्स में कोई आयु सीमा नहीं है। उद्योगों के कर्मचारी, पुराने विद्यार्थी, महिलाएं, बीते सत्र के 12वीं पास युवा सहित हर वर्ग के लोग अपनी समय सीमा के अनुसार प्रवेश लेकर पढ़ाई पूरी कर सकते है। 6 माह की पढ़ाई में सर्टिफिकेट से लेकर 3 साल तक की पढ़ाई में डिग्री प्राप्त होगी। जो कि अन्य सामान्य स्नातक विषयों के समकक्ष होगी।आईटीआई पास के विद्यार्थी भी डिग्री में प्रवेश ले सकते हैं। इसी तरह एनएसक्यूएफ लेवल 4 के विद्यार्थी भी बी.वोक. कर सकते हैं।


श्री चौबे ने बताया कि वर्तमान और भविष्य स्किल का समय है, इसलिए स्किल बेस पाठ्यक्रम करना विद्यार्थियों के लिए बेहद जरूरी है, ताकि उन्हें जल्द ही रोजगार मिल सके। बी.वोक.ऐसा ही पाठ्यक्रम हैै। जिसकी पढ़ाई में 60 फीसदी कोर्स स्किल बेस हैं जो कि संबंधित विषय के इंडस्ट्री में कराए जाएंगें। विद्यार्थी सीधे प्रेक्टिकल करेंगे। शेष 40 फीसदी कोर्स जनरल एजुकेशन है।  

नए पाठ्यक्रम के संबंध में एक उन्नमुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर विवि. में दिगदर्शिका का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम में विवि के कुलाधिपति से संतोष चौबे, कुलपति प्रो.रवि प्रकाश दुबे, कुलसचिव गौरव शुक्ला, दूरस्थ शिक्षा के डायरेक्टर अरविंद तिवारी, आईसेक्ट के राज्य समन्वयक शशिकांत वर्मा, पीएमकेके के बिलासपुर के डायरेक्टर राशिद खान सहित बड़ी संख्या में उद्यमी उपस्थित थे।


इन सेक्टर्स में कोर्सेस बनाए गए..
बी.वोक.इन एग्रीकल्चर।
बी.वोक.इन पेशेंट केयर मेनेजमेंट।  
बी.वोक.इन बैंकिंग फायनेंशिय सर्विस एंड इंश्योरेंस।
बी.वोक. इन टैक्सटाइल टेक्नाॅजाली।
बी.वोक.इन होटल मेनेजमेंट।
बी.वोक.इन फूड प्रोसेसिंग।
बी.वोक.इन आईटी एप्लीकेशन डेवलपमेंट।
बी.वोक.इन कम्यूटर हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग।
बी.वोक.इन टेलीकम्यूनिकेेशन।
बी.वोक.इन रिटेल मेनेजमेंट।  
बी.वोक.इन इलेक्ट्रानिक्स मैनुफेक्चरिंग सर्विस।
बी.वोक.इन रिन्यूएबल एनर्जी।
बी.वोक.इन मैनुफेक्चरिंग।
बी.वोक.इन आटोमोबाइल सर्विसिंग। 
बी.वोक.इन रेफ्रिजनेरशन एंड एयर कंडिशियनिंग पाठ्यक्रम शामिल है।


Post a Comment

0 Comments