.

CM के विकास यात्रा से क्या ..? सच होंगे सपने ! या पत्थलगांव के साथ फिर से.........?

By प्रदीप ठाकुर

पत्थलगांव(पत्रवार्ता.कॉम) बात करें पिछले विधानसभा चुनाव की जहाँ लोग भी वही,मंच भी वही,जगह भी वहीँ और सीएम  भी वही जिन्होंने न केवल पत्थलगांव की जनता को विश्वास दिलाया था बल्कि पत्थलगांव के समुचित विकास का वादा भी किया था।

अब विकास ढूंढने का हमने बहुत प्रयास किया पर कुछ ख़ास नहीं मिला जिसे हम कह सकते थे कि हाँ वाकई पत्थलगांव का विकास हुआ है,सरकारी आंकड़ों की बात हम नहीं कर रहे पर जमीनी हकीकत यही है कि नगर पंचायत की बजबजाती हुई नालियां,राष्ट्रीय राजमार्ग के घुटने भर गड्ढे आज भी विकास की बाट जोह रहे हैं।

आपको बता दें कि पत्थलगाँव की बहुचर्चित मांग जिले की थी और पिछली बार सीएम के आने से विश्वास दिलाने से यह आस जगी थी की पत्थलगाँव जिला बन जाएगा पर ये क्या..? पांच साल तो बीतने को है जिला क्या नगर पालिका तक नहीं बना यह बेहद चिंताजनक है।

इतना ही नहीं यहाँ कृषि महाविद्यालय की मांग भी थी जिसपर कोई कार्य नहीं हुआ ....लगातार कांग्रेस की जीत को ढहाने के लिए जिला बनाने का मास्टर कार्ड खेला गया था जिसमे बीजेपी की जीत हुई थी पर जनता अब अपने को ठगा सा महसूस कर रही है।

पिछले दिनों भारत सरकार के केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने रायगढ़ से धरमजयगढ़ तक 72 किमी लंबी सड़क बनाने के लिए एक हजार करोड़ रुपए की स्वीकृति दी है। इससे पहले जुलाई 2015 में रायगढ़ से पत्थलगांव के बीच 110 किमी सड़क के लिए 540 करोड़ का ठेका जिंदल को दिया गया था। कंपनी फंड एकत्र नहीं कर पाई जिसके बाद ठेका निरस्त कर दिया गया था। जिसके बाद से सड़क वैसी ही स्थिति में है जिसमे कोई बदलाव नही हो सका । अब केंद्र सरकार के भारत माला प्रोजेक्ट के तहत रायगढ़ से धरमजयगढ़ तक सड़क निर्माण होगा और पत्थलगाँव फिर से अछुता हो गया।  


प्रदेश कांग्रेस सचिव शेखर त्रिपाठी ने कहा कि केंद्र सरकार की लेटलतीफी इसके लिए जिम्मेदार है रायगढ़ से धरमजयगढ़ तक स्टेट हाइवे अभी टू लेन है पत्थलगांव से रायगढ़ तक की सड़क पिछले तीन सालों से खस्ताहाल हो चुकी हैं जो अत्यंत जर्जर स्तिथि में है जिससे लगातार प्लांट एवं खदान इलाकों में आये दिन जाम की स्तिथि बन रही है जिससे खासी परेशानी उत्पन्न हो रही है साथ ही इससे आए दिन दुर्घटनाएं भी हो रही हैं। उन्होंने कहा कि  केंद्रीय मंत्री ने सिर्फ धरमजयगढ़ तक ही सड़क को स्वीकृति क्यों दी जबकि यह सड़क को पूर्व में पत्थलगांव तक निर्माण किया जाना था जो निर्णय अनुचित है पत्थलगांव सहित जशपुरांचल को भी इसका लाभ मिलना चाहिए उन्होंने कहा की हम इसका विरोध करते हैं एवं साथ ही इसके लिए पत्र लिखकर हम पार्टी के माध्यम से मांग कर रहे हैं 

नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया बनाएगी सड़क

गौरतलब है प्रत्येक दिन  आठ से 10 हजार वाहन जिसमे अधिकतर भारी वाहन एवं बसें भी शामिल हैं जो इस मार्ग से लगातार गुजरते हैं जो मुम्बई-हावड़ा मार्ग भी है ।साथ ही इसका दूसरा सबसे बड़ा कारण यह है कि रायगढ़ और कोरबा जिले में बड़े उद्योगों की स्थापना के बाद पत्थलगांव से रायगढ़ मुख्य मार्ग पर कमर्शियल वाहनों का दबाव बढ़ा है। सरगुजा जिले से बाक्साइट और रायगढ़ जिले से लोहा आदि का परिवहन करने के लिए पत्थलगांव रायगढ़ मुख्य मार्ग को ही सबसे सुगम मार्ग मानते हैं। इसके साथ ही मुंबई-हावड़ा व्याहा रांची मार्ग होने के कारण रायगढ़-पत्थलगांव मार्ग पर यातायात काफी ज्यादा है। 

एनएच के कार्यपालन अभियंता मनोज थोरात के अनुसार रायगढ़ से धरमजयगढ़ की सड़क को एनएचआई भारत माला योजना के तहत बनाएगी। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचआई) बनाएगी। इसकी मानिटरिंग सीधे सड़क परिवहन मंत्रालय करती है। इससे पहले बिलासपुर-रायपुर, सराईपाली- रायपुर सहित राज्य के कुछ ही सड़कों का निर्माण एनएचआई के माध्यम से ही हुआ है। जिले की पहली सड़क होगी जिसका निर्माण एनएचआई सीधे कराएगा।

निर्माण शुरू होने से पहले ही निर्माण एजेंसी ने किया सरेंडर 

रायगढ़ सांसद विष्णुदेव साय ने सड़क पर बढ़ते हादसों तथा व्यापार जगत को बढ़ावा देने के लिए रायगढ़ से पत्थलगांव को फोरलेन में बदलने पर पूर्ण जोर तो दिया मगर वे भी कार्य नही करा पाए 2017 में छत्तीसगढ़ सड़क विकास निगम ने सड़क निर्माण के लिए टेंडर बुलाया था। पर निर्माण शुरू होने से पहले ही निर्माण एजेंसी ने सरेंडर कर दिया। यही वजह है कि राष्ट्रीय राजमार्ग को हस्तांतरित करने की प्रक्रिया शुरू की गई। पीडब्ल्यूडी अफसरों का कहना है कि निविदा आमंत्रित करने में कुछ समय और लग सकता है ।बहरहाल अब देखना होगा कि सीएम के वादों और इरादों का लाभ पत्थलगाँव की जनता को कितना मिल पाता है। 
Share on Google Plus

About patravarta.com

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 Comments:

Featured Post

बड़ी खबर : जब उड़नदस्ता टीम ने छात्राओं के उतरवाए कपड़े...? ..और फांसी के फंदे पर झूल गई 10 वीं की छात्रा।

जशपुर(पत्रवार्ता) बोर्ड परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए जांच के नाम पर छात्र छात्राओं के कपड़े उतरवाकर जांच किए जाने का मामला सामने आया ...